GLIBS

राष्ट्रवाद को कोसने के बदले कांग्रेस अपने कर्मों पर मंथन करें: डॉ. रमन सिंह

हर्षित शर्मा  | 10 Oct , 2019 07:43 PM
राष्ट्रवाद को कोसने के बदले कांग्रेस अपने कर्मों पर मंथन करें: डॉ. रमन सिंह

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि भाजपा किसी को राष्ट्रवाद का सर्टिफिकेट नहीं बांटती। अब अगर कांग्रेस की देशभक्ति पर देश संदेह कर रहा है तो कांग्रेस नेताओं को अपने कर्मों पर मंथन करने की आवश्यकता है। डॉ. सिंह प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के उस बयान पर हमलावर थे, जिसमें बघेल ने भाजपा के राष्ट्रवाद की आलोचना करते हुए राष्ट्रवाद का सर्टिफिकेट बांटने की बात कही थी। डॉ. सिंह ने कहा कि भाजपा ने कभी राष्ट्रवाद के नाम पर देश को बांटने का काम नहीं किया। अलबत्ता कांग्रेस ने सत्ता के लिए देश का साम्प्रदायिक आधार पर विभाजन मंजूर किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेताओं के कर्म ही ऐसे रहे हैं कि अब देश को उस पर भरोसा नहीं रह गया है। जम्मू-कश्मीर में धारा 370 जारी रखने और अफ्स्पा को खत्म करने का वादा अपने चुनावी घोषणापत्र में करके कांग्रेस किनका हित साध रही थी? एक पार्टी के अध्यक्ष होकर भी राहुल गांधी टुकड़े-टुकड़े गैंग के साथ खड़े होकर क्या संदेश और संकेत दे रहे थे? भाजपा के राष्ट्रवाद को कोसने से पहले कांग्रेस के नेता अपने कर्मों पर मंथन करें और फिर राष्ट्रवाद की परिभाषा गढ़ें। इसके लिए कांग्रेस को तुष्टिकरण की राजनीति के दायरे से बाहर आना होगा। श्रीराम को कांग्रेसियों के कण-कण में बताने पर भी मुख्यमंत्री बघेल पर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने तीखा कटाक्ष किया। देश को याद है कि रामसेतु और भगवान राम के अस्तित्व को नकारते हुए कांग्रेस की केन्द्र सरकार ने कोर्ट में हलफनामा पेश किया था। भगवान श्रीराम को महज एक काल्पनिक पात्र बताने वाली कांग्रेस अब वोटों की लालच में भगवान राम को भारतीय सभ्यता और संस्कृति का प्रतीक बता रही है। मुख्यमंत्री बघेल से डॉ. सिंह ने पूछा कि वे बताएं कि भगवान राम के मंदिर के खिलाफ  जिरह करने वाले वकीलों की राजनीतिक पृष्ठभूमि क्या कांग्रेस की नहीं है? भाजपा के लिए श्रीराम इस राष्ट्र-जीवन के आदर्श और पराक्रमी-पौरुष की पहचान हैं, आस्था के केन्द्र हैं।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.