GLIBS

BJP: भाजपा वोटिंग के जरिए कर रही है प्रत्याशियों का चुनाव

आर पी सिंह  | 15 Oct , 2018 11:07 AM
BJP: भाजपा वोटिंग के जरिए कर रही है प्रत्याशियों का चुनाव

रायपुर । भारतीय जनता पार्टी में इस बार वोटिंग के जरिए जिताऊं प्रत्याशियों का चयन किया जाएगा। इसके लिए भाजपा ने पूरे प्रदेश के लिए पर्यवेक्षकों की टीम बनायी है। ये पर्यवक्षेक चुनाव और जीतने योग्य संभावित दावेदारों की तलाश कर रहे हैं।

राजनांदगांव के ये हैं पर्यवेक्षक:

प्रदेश के अलग-अलग इलाकों में पहुंचकर ये पर्यवेक्षक वहां की विधानसभा सीटों के लिए वोटिंग करवा रहे हैं। राजनांदगांव में तीन पर्यटवेक्ष छह विधानसभा क्षेत्रों के लिए मंथन करने पहुंचे हैं। इस दौरान क्षेत्रवार पदाधिकारियों से अलग-अलग चर्चा की जा रही है। बिलासपुर सांसद लखनलाल साहू, आरंग विधायक नवीन मारकंडे और विधानसभा के पूर्व उपाध्यक्ष नारायण चंदेल पहुंचे हैं।

बिलासपुर में भी हुई वोटिंग:

वहीं बिलासपुर में चुनाव पर्यवेक्ष सांसद रमेश बैस और भीमसेन अग्रवाल ने मस्तूरी क्षेत्र के कार्यकताओं की उम्मीदवारों के संबंध में राय जानने के लिए जिला भाजपा कार्यालय में चर्चा की। और वोटिंग भी कराया। हालांकि कुछ जगहों पर विवाद की स्थिति बनती दिखी। बीजापुर में कई पदाधिकारी वोट नहीं दे सकते।

लोग भी दिखा रहे दिलचस्पी:

वोटिंग के जरिये प्रत्याशी का चयन किया जायेगा। माना जा रहा है कि कांग्रेस की तर्ज पर ही भाजपा भी इस दफा अपने प्रत्याशी का चयन जुदा अंदाज में कर रही है। हालांकि ये मापदंड कितना कारगर होगा, ये तो पता नहीं लेकिन इस अंदाज में भाजपा के प्रत्याशी चयन के अंदाज पर लोग काफी दिलचस्पी भी ले रहे हैं।

पता चलेगी प्रत्याशियों की क्षमताएं भी:

इसके पीछे का दूसरा गणित ये भी है कि इससे प्रत्याशियों की पार्टी के भीतर की लोकप्रियता का भी पता चल जाएगा। तो वहीं ये बात भी साफ हो जाएगी कि उक्त प्रत्याशी के लिए कितने कार्यकर्ता मन से कार्य करेंगे। कांग्रेस की जन घोषणा पत्र का इसको जवाब माना जा रहा है।

चुनाव में प्रचार का स्मार्ट तरीका:

एक ओर जहां निर्वाचन आयोग नए-नए शिकंजे कस रहा है। तो वहीं राजनेता भी नए-नए फंडे अपना रहे हैं। ऐसे में इन लोगों ने चुनावी प्रचार की पूरी तस्वीर ही बदल डाली। अब  चयन के लिए वोटिंग भी इसी का एक स्मार्ट तरीका है।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.