GLIBS

कांग्रेस ने मदनवाड़ा की न्यायिक जांच कराने के फैसले का किया स्वागत

रविशंकर शर्मा  | 20 Jan , 2020 04:26 PM
कांग्रेस ने मदनवाड़ा की न्यायिक जांच कराने के फैसले का किया स्वागत

रायपुर। कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ के सपूतों की मदनवाड़ा में शहादत की न्यायिक जांच कराने के भूपेश बघेल सरकार के फैसले का स्वागत किया है। कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि 12 जुलाई  2009 माओवादी हमले में राजनांदगांव के एसपी व्हीके चौबे सहित 29 पुलिसकर्मियों की मदनवाड़ा में शहादत के मामले में साजिश उजागर होनी चाहिए। इस घटना के बाद सूचना तंत्र और एसपी को बगैर पर्याप्त सुरक्षा और तथाकथित परिस्थिति बताकर भेजे जाने को लेकर बड़े सवाल खड़े होते रहे हैं। छत्तीसगढ़ के 29 सपूतों की मदनवाड़ा में शहादत की जांच होनी ही चाहिए। त्रिवेदी ने मदनवाड़ा कांड की न्यायिक जांच आयोग गठित होने पर भाजपा की ओर से दिए गए बयान को सच्चाई उजागर हो जाने से घबराकर बौखलाहट में बोले गए झूठ की संज्ञा दी है। त्रिवेदी ने कहा कि कांग्रेस के नेता मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मदनवाड़ा की घटना की सूचना मिलने के तत्काल बाद राजनांदगांव जाकर न केवल स्वयं वस्तुस्थिति की जानकारी ली,बल्कि उस समय से लगातार मदनवाड़ा मामले में विसंगतियों को भूपेश बघेल और कांग्रेस पार्टी उठाती रही है। 29 जून 2013 को डॉ. चरणदास महंत और रविन्द्र चौबे के बयान में भी जीरम के साथ-साथ मदनवाड़ा की घटना को लेकर सुस्पष्ट आरोप लगाये गए थे। 3 दिसंबर 2014 को माओवादी हमले में 14 जवानों की शहादत के बाद भी कांग्रेस ने यह मामला उठाया था। 18 दिसंबर 2014 को भी कांग्रेस के बयान में कहा गया था मदनवाड़ा मामले में भाजपा सरकार का रवैया गलत है। गंभीरता से नहीं लिया गया। भाजपा सरकार संवेदनहीन क्रूर और निर्दयी बनी रही। 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.