GLIBS

208 विश्वविद्यालयों के कुलपति चिंता जाहिर कर रहे है लेफ्ट की हिंसक छात्र राजनीति पर, कुछ तो बात होगी

अनिल पुसदकर  | 12 Jan , 2020 10:16 PM
208 विश्वविद्यालयों के कुलपति चिंता जाहिर कर रहे है लेफ्ट की हिंसक छात्र राजनीति पर, कुछ तो बात होगी

रायपुर। देश के जाने-माने 208 विश्वविद्यालयों के कुलपतियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर हिंसक छात्र राजनीति पर चिंता जाहिर की है। उन्होंने लेफ्ट की राजनीति में हिंसा घोलने पर चिंता जाहिर की है। और उनका चिंता जाहिर करना कहीं से गैर वाजिब नहीं लगता। जिस तरह से जेएनयू राजनीति का अखाड़ा हो गया है उससे वहां की पढ़ाई बुरी तरह प्रभावित हो रही है। लेफ्ट और राइट इन दो पाटों के बीच में पीसकर पढ़ने लिखने वाले बच्चे बुरी तरह परेशान हो रहे हैं। फिर जेएनयू के अध्ययन का राजनीतिक संक्रमण धीरे धीरे और विश्वविद्यालयों तक फैल रहा है। यही 208 विश्वविद्यालय के कुलपति यों की चिंता का प्रमुख कारण हो सकता है। छात्र राजनीति छात्र हितों की रक्षा और छात्रों को मिलने वाली सुविधाओं के लिए संघर्ष तक सीमित रहने की वजह राजनीतिक पार्टियों के हथियारों की तरह इस्तेमाल हो रही है। जो देश के जाने-माने शिक्षाविदों के लिए चिंता का कारण है। जेएनयू की हिंसा उन सैकड़ों बच्चों के पालकों के लिए भी चिंता का कारण बनी हुई है,जो अपने बच्चे को उच्च शिक्षा के लिए वहां भेज रहे हैं। जेएनयू देश के जाने-माने विश्वविद्यालयों में से एक होने के बावजूद अब वह शिक्षा के लिए कम राजनीतिक दंगलों के लिए ज्यादा पहचाना जा रहा है। फिर जेएनयू में देश विरोधी नारेबाजी भी कहीं न कहीं चिंता का विषय बनी हुई है। संभवत 208 विश्वविद्यालय के कुलपतियों की चिंता के पीछे भी यही सब कारण हैं,जो उन्होंने प्रधानमंत्री को खत लिखकर जाहिर किए हैं।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.