GLIBS

बृजमोहन ने कहा, गायों की मौत नहीं यह गौ हत्या है, गौठान रोका छेका से लेकर गोधन योजना को बताया सुपर फ्लॉप

हर्षित शर्मा  | 26 Jul , 2020 08:46 PM
बृजमोहन ने कहा, गायों की मौत नहीं यह गौ हत्या है, गौठान रोका छेका से लेकर गोधन योजना को बताया सुपर फ्लॉप

रायपुर। विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने बिलासपुर जिले के तखतपुर ब्लाक में मेडापार गांव में गायों की दम घुटने से हुई दर्दनाक मौत को सीधा सीधा गौ हत्या करार दिया है। बृजमोहन ने कहा कि सरकार के रोका छेका के निर्देश के बाद बिना किसी तैयारी के इनके धरातल पर लाने प्रशासनिक आतंक के चलते रोका छेका के नाम पर गांव गांव में यही हाल है। ये तो एक गांव है हाल सामने आया है,पूरे प्रदेश के गांवों का यही हाल है। जिस गांव में गौठान नहीं है, जहां कांजी हाउस नहीं है, वहां रोका छेका का निर्देश किसका था।  चारे की कहीं व्यवस्था नहीं है पानी की कहीं व्यवस्था नहीं है बरसात में गायों को रखने की व्यवस्था नहीं है वहां पर सैकड़ों गायों को कमरे में ठूंसकर रखा गया। भोजन, पानी, हवा न होने के कारण, गायों की मौत दम घुटने से तड़प तड़प कर हुई है। यह मौत नहीं सीधा सीधा गौ हत्या है।

सरकार स्थानीय जनप्रतिनिधियों पर एफआरआई कराकर गौ हत्या के इस पाप से बच नहीं सकती।अग्रवाल ने कहा कि सरकार की सभी योजनाएं एक एक कर सुपर फ्लॉप रही है। गोधन न्याय योजना गोधन अन्याय योजना में परिवर्तित हो गई है। सरकार ने रोका छेका के तहत रखने वाले गायों के चारे की व्यवस्था ही नहीं की,गांव में गायों को रोका छेका कर रखने की उचित जगह ही नहीं है, गांव गांव में जो आदर्श गौठान बनाये गए हैं,उसमें ज्यादातर तो कागजों में बने हैं।अग्रवाल ने मांग की है कि सरकार को गौठान से लेकर रोका छेका व गोधन न्याय योजना की एक बार हर स्तर पर समीक्षा होनी चाहिए। जब तक गायों की रखने की व्यवस्था, चारे की समुचित व्यवस्था,पानी की समुचित व्यवस्था न हो इस योजना को तब तक के लिए स्थगित कर देना चाहिए।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.