GLIBS

बृजमोहन ने कहा, छत्तीसगढ़ आर्थिक संकट से गुजर रहा है, सरकार ने विकास को अवरूद्ध किया

हर्षित शर्मा  | 27 Jun , 2020 08:51 PM
बृजमोहन ने कहा, छत्तीसगढ़ आर्थिक संकट से गुजर रहा है, सरकार ने विकास को अवरूद्ध किया

रायपुर। विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने राज्य सरकार पर रायपुर के विकास को अवरूद्ध करने का आरोप लगाया है। बृजमोहन ने कहा कि प्रदेश अभूतपूर्व आर्थिक संकट के दौर से गुजर रहा है, सरकार दिवालिया हो रही है। इसलिए सरकारी जमीन को बेचने जा रही है। यह सरकार भूमि बेचने के नाम पर जमीन का खेल, खेल रही है। सरकारी जमीन बेचकर पैसा कमाने में लगी है, सरकार। बृजमोहन ने कहा कि दक्षिण विधानसभा में पिछले 15 वर्षों में जो काम हुए थे वह सबके सामने हैं। चुनाव से पूर्व भी लगभग 100 करोड़ के विकास कार्य स्वीकृत या प्रारंभ हुए थे। किन्तु कांग्रेस ने सरकार में आते ही सबसे पहले विकास कार्यों का पैसा वापस लेकर सभी कार्य बंद करवा दिए। शहर के विकास कार्यों का पैसा वापस ले लिया। सत्ता में आने के बाद इस सरकार ने रायपुर शहर में कोई काम नहीं किया है,जिसको गिनाया जा सके। बृजमोहन ने पूछा कि घोषणा पत्र में बेरोजगारी भत्ते की बात थी इसका क्या हुआ? महिला स्व सहायता समूहों के ऋण मुक्ति का क्या हुआ? 2 साल के धान के बोनस का क्या हुआ? छत्तीसगढ़ ने 15 साल जीरो पावर कट राज देखा है 24 घंटे 7 दिन पर आज क्या है? बिजली बिल हाफ करने के स्थान पर बिजली ही हाफ कर दी है? प्रदेश अब हमेशा हमेशा के लिए पावर कट राज्य हो गया है। गांव-गांव में शहरों में भी बिजली कटौती हो रही है। हवा चली, बरसात हुई बिजली बंद। अग्रवाल ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने 2500 रुपए क्विंटल में धान खरीदी का पूरा पैसा न देकर किसानों से छल किया है। किसानों के हक के उनके फसल के बचत राशि को देकर राजीव गांधी न्याय योजना के नाम पर किसानो के साथ अन्याय कर रही है। इस योजना का नाम राजीव अन्याय योजना करना चाहिए। अब गोधन अन्याय योजना ला रही है कांग्रेस। नरवा गरवा घुरवा बाड़ी योजना पूरी तरह फ्लॉप रही है। गोठानों में गरवा नहीं है गाय के लिए चारा नहीं है, गोठानों की हालत बद से बदतर है। योजना पूरी तरह फेल हुई तो सरकार किसानों को भरमाने फिर रोका-छेका ले आई यह तो वर्षों पुरानी हमारे प्रदेश के गांव-गांव की परम्परा है। आप चारा की व्यवस्था ही नहीं करोगे तो कैसा ह्यरोका-छेकाह्ण। और अब नई योजना गोबर खरीदने का ले आए यह गोधन अन्याय योजना भी पूरी तरह फेल होगी। क्योंकि सरकार की नीयत ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना से ज्यादा क्वारेंटाइन सेंटर में लोग मर रहे हैं। आत्महत्या का केन्द्र बन गए हैं। सर्प-बिच्छू काटने के केन्द्र बन गए है। पूरे प्रदेश में क्वारेंटाइन सेंटर अव्यवस्था के अड्डा बन गए है। सरकार के लिए भ्रष्टाचार केन्द्र बन गए है। सरकार क्वारेंटाइन सेंटर की व्यवस्था में पैसा ही नही खर्च कर अन्य कार्यो में खर्च कर रही है।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.