GLIBS

इंद्रावती के जल का सदुपयोग कर बस्तर को स्वर्ग बनाने के लिए बोधघाट परियोजना जरूरी : भूपेश बघेल

यामिनी दुबे  | 16 Sep , 2020 04:26 PM
इंद्रावती के जल का सदुपयोग कर बस्तर को स्वर्ग बनाने के लिए बोधघाट परियोजना जरूरी : भूपेश बघेल

रायपुर/जगदलपुर। अब बोधघाट परियोजना के निर्माण से क्षेत्र में सिंचाई क्षमता 366580 हेक्टेयर क्षेत्र का विकास होगा। इस परियोजना के विकास के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बस्तर क्षेत्र के सांसद, विधायक और गणमान्य जन प्रतिनिधियों की बैठक लेकर कहा कि इंद्रावती नदी के जल का सदुपयोग कर बस्तर को खुशहाल और समृद्ध बनाने के लिए बोधघाट परियोजना जरूरी है। प्रदेश और बस्तर संभाग की महत्वपूर्ण बहु उद्देशीय परियोजना इंद्रावती नदी पर प्रस्तावित बोधघाट परियोजना है। लगभग 22 हजार 653 करोड़ रुपए की लागत से बोधघाट परियोजना का विकास दंतेवाडा जिले के गीदम विकासखण्ड के पर्यटन स्थल बारसुर के समीप किया जाना है। परियोजना का महत्व इसलिए भी बढ़ जाता है कि वर्तमान में लगभग 13 प्रतिशत सिंचाई क्षमता है। इस परियोजना के निर्माण से क्षेत्र में सिंचाई क्षमता 366580 हेक्टेयर क्षेत्र का विकास होगा।

इससे दंतेवाड़ा जिले से 51 गाँव, 218 बीजापुर और सुकमा के 90 गाँव कुल 359 गाँव लाभान्वित होंगे। इसके अलावा परियोजना से 300 मेगावाट विद्युत उत्पादन होगा। ओद्यागिक उपयोग हेतु 500 मि.घ.मी. जल, पेयजल के लिए 30 मि.घ.मी. पानी का उपयोग किया जा सकेगा। मत्स्य पालन में 4824 टन वार्षिक लक्ष्य के साथ पर्यटन के लिए भी एक स्थल का विकास किया जाएगा। इस परियोजना के निर्माण से 42 गाँव और 13783.147 हेक्टेयर जमीन डुबान क्षेत्र में आ रहे है। इसमें वन भूमि 5704 हेक्टेयर, निजी भूमि 5010 हेक्टेयर और शासकीय भूमि 3069 हेक्टेयर  के करीब आ रही है।मुख्यमंत्री ने कहा प्रभावितों के लिए पुनर्वास व व्यवस्थापन की बेहतर व्यवस्था किया जाएगा। विस्थापितों को उनकी जमीन के बदले बेहतर जमीन, मकान के बदले बेहतर मकान दिए जाएँगे। प्रभावितों के पुनर्वास एवं व्यवस्थापन के बाद ही उनकी भूमि ली जाएगी। कोशिश होगी, इस प्रोजेक्ट की नहरों के किनारे की सरकारी जमीन प्रभावितों को मिले ताकि वह खेती किसानी बेहतर तरीके से कर सके।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.