GLIBS

भाजपा ने किया छत्तीसगढ़ के किसानों के साथ छलावा : सुशील मौर्य

सुभाष रतनपाल  | 14 Jan , 2021 04:54 PM
भाजपा ने किया छत्तीसगढ़ के किसानों के साथ छलावा : सुशील मौर्य

जगदलपुर। युवा कांग्रेस प्रदेश महासचिव सुशील मौर्य ने कहा है कि प्रदेश भाजपा,किसानों के नाम पर ओछी राजनीति कर रही हीं। उन्होंने कहा कि अपने 15 साल के शासन काल में किसानों को समर्थन मूल्य एवं धान का बोनस नहीं दे पाने वाले भाजपाई सत्ता से जाते ही किसानों के हितैषी बनने का ढोंग रच रहे हैं।

भाजपा के 15 साल में हजारों किसानों की मौत पर कुछ न कह पाने वाले नेता आज 2500 रुपए प्रति क्विंटल पर धान खरीदने वाले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर सवाल उठाने वाले पहले अपने गिरेबान पर झाँके।
सर्वविदित है कि केंद्र की मोदी सरकार ने 60 हजार मीट्रिक टन धान की खरीदी की मंजूरी देकर अब 24 हजार मीट्रिक टन धान खरीदने की बात राज्य शासन ने कह कर छत्तीसगढ़ के किसानों के साथ छलावा किया है पर दुख इस बात का है कि छत्तीसगढ़ के भाजपाई इस मुद्दे पर केंद्र की मोदी सरकार से कोई चर्चा नहीं करना चाहते और प्रदेश के हर कोने में भाजपाई धरना प्रदर्शन करने के लिए समय निकाल रहे हैं पर दिल्ली में जाकर केंद्रीय कृषि मंत्री एवं मोदी सरकार से चर्चा कर नहीं सकते पर प्रदेश में बरगलाने की राजनीति जरूर कर सकते हैं।

पूरे प्रदेश में बारदाने की कमी को लेकर हो हल्ला मचाने वाले नौटंकीबाज भाजपाई क्यों केंद्र सरकार से बारदाने की कमी को लेकर कोई चर्चा नहीं कर पा रहे हैं जबकि बारदाना केंद्र के द्वारा आपूर्ति किया जाता रहा है। इसके उलट छत्तीसगढ़ के किसानों को बारदाने की कमी ना हो इसीलिए अपने बजट से बारदाने की खरीदी के लिए गुजरात की कंपनी को ऑर्डर दिया गया था परंतु कोरोना काल मे फ़ैक्टरियों के बंद होने के कारण बारदानों की खरीदी नहीं हो पाई थी फिर भी छत्तीसगढ़ की सरकार आज किसानों के धान का एक एक दाना खरीदने को प्रतिबद्ध है। पूरे भारतवर्ष में छत्तीसगढ़ ही एक मात्र ऐसा राज्य है जहां पर 2500 रुपये प्रति क्विंटल की दर से किसानों का धान खरीद रही है एवं उनके आय को बढ़ाने का प्रयास कर रही है,जिससे भाजपाईयों के पेट में दर्द होने लगा है। दिल्ली में नए कृषि कानून के खिलाफ लाखों किसानों द्वारा किये जा रहे आंदोलन में अब तक 57 किसान भाई शहीद हो चुके हैं उन पर भाजपाईयों ने मौनव्रत धारण किया हुआ है। 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.