GLIBS

भाजपा नेता धान खरीदी की प्रक्रिया में व्यवधान डालने की कोशिश कर रहे : आरपी सिंह

रविशंकर शर्मा  | 19 Nov , 2019 10:51 PM
भाजपा नेता धान खरीदी की प्रक्रिया में व्यवधान डालने की कोशिश कर रहे : आरपी सिंह

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता आरपी सिंह ने कहा है कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस पार्टी की भूपेश बघेल सरकार भाजपा की तमाम साजिशों एवं अवरोधों के बावजूद 2500 रुपए में किसानों का धान खरीदने के लिये कटिबद्ध है। डॉ.रमन सिंह एवं भाजपा के नेता इस धान खरीदी से घबराए एवं हड़बड़ाए हुए हैं और पूरी ताकत से धान खरीदी की प्रक्रिया में व्यवधान डालने की कोशिश कर रहे हैं। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि डॉ.रमन सिंह का ताजातरीन बयान किसानों के पक्ष में नहीं है बल्कि ये कोचियों और धान तस्करों को प्रोत्साहन देने के लिए दिया गया बयान है। विगत वर्ष सन् 2018-19 में धान कोचिया और दलालों के खिलाफ रमन सरकार ने भी कार्यवाही की थी और कुल 2727 मामले अवैध धान परिवहन के पंजीबद्ध किये थे,जिसमें 8947996 रुपए के कुल 62971.49 क्विंटल धान जब्त किया था फिर इस वर्ष होने वाली उसी कार्यवाही का विरोध क्यों?  वहीं इस वर्ष पूरे प्रदेश में 18 नवंबर तक 465 प्रकरण पंजीबद्ध हुए हैं, जिसमें कुल 39748.23 क्विंटल दूसरे प्रदेशों का अवैध धान जब्त हुआ है और कुल 110 वाहन जब्त किए गए हैं। प्रदेश के किसी भी किसान ने अभी तक यह शिकायत नहीं की है कि प्रशासन ने उसका धान गलत तरीके से जब्त किया हो।
कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि सवाल यह उठता है कि जब प्रदेश में बड़ी मात्रा में अवैध धान जिला प्रशासन जब्त कर रहा है तब डॉ.रमन सिंह एवं भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के पेट में दर्द क्यों हो रहा है? क्या यह दर्द बिचौलियों और धान दलालों के ऊपर होने वाली कड़ी कार्यवाही की वजह से है? भाजपा को इस पेट दर्द की असली वजह स्पष्ट करनी चाहिए। डॉ. रमन सिंह अपने कार्यकाल का वो काला अध्याय भूल गए हैं जब किसानों के खेत, खलिहान एवं घरों में प्रशासनिक अधिकारी छापा मार कर वैध धान को जब्त किया करते थे, तब ये घड़ियाली आंसू कहां थे डॉ. साहब। एक बानगी देखिये डॉ. रमन सिंह के गृह जिले कवर्धा में बाहर के राज्यों से लाया जा रहा 8000 क्विंटल अवैध धान अभी तक जब्त किया गया है, जो कि इस बात का जीताजागता सबूत है कि किस तरीके से धान कोचियों एवं दलालों की अपरोक्ष मदद करके भूपेश बघेल सरकार की धान खरीदी योजना, किसान समर्थक योजना के खिलाफ साजिश की जा रही है।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.