GLIBS

149 साल बाद बन रहा है दुर्लभ संयोग, गुरु पूर्णिमा के दिन पड़ेगा चंद्र ग्रहण

149 साल बाद बन रहा है दुर्लभ संयोग, गुरु पूर्णिमा के दिन पड़ेगा चंद्र ग्रहण

नई दिल्ली। इस बार साल का दूसरा चंद्र ग्रहण 16 जुलाई को लगने वाला है। ये चंद्र ग्रहण कई मायनों में खास है। इस बार यह चंद्र ग्रहण भारत में भी दिखाई देने वाला है। इसके अलावा यह ग्रहण आषाढ़ मास की पूर्णिमा यानी गुरु पूर्णिमा के दिन पड़ रहा है। ज्योतिषों की मानें तो ऐसा संयोग 149 साल बाद बन रहा है।

चंद्र ग्रहण का समय-
चंद्र ग्रहण 16 जुलाई की मध्यरात्रि में खंडग्रास रात 1 बज कर 32 मिनट से शुरू होकर सुबह 4 बज कर 31 मिनट तक रहेगा। बात अगर सूतक काल की करें तो यह 9 घंटे तक रहेगा। जो कि 16 जुलाई की शाम 4 बज कर 31 मिनट से शुरू होगा।



149 साल पहले गुरु पूर्णिमा पर लगा था चंद्र ग्रहण-
12 जुलाई, 1870 को 149 साल पहले गुरु पूर्णिमा पर चंद्र ग्रहण हुआ था। उस समय भी शनि, केतु और चंद्र के साथ धनु राशि में स्थित था। सूर्य, राहु के साथ मिथुन राशि में स्थित था।



यहां दिखेगा चंद्र ग्रहण-
चंद्र ग्रहण पूरे भारत के साथ ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका, एशिया, यूरोप और दक्षिण अमेरिका में दिखाई देगा।



चंद्रग्रहण के बाद जरूर करें ये काम-
-चंद्रग्रहण खत्म होने के बाद घर में शुद्धता बनाए रखने के लिए गंगाजल का छिड़काव जरूर करें।
-ग्रहण के बाद स्नान करके भगवान की मूर्तियों को भी स्नान करवाकर ही उनकी पूजा करें।
-ग्रहण काल के दौरान गर्भवती महिलाएं घर से बाहर नहीं निकलें। निकलना अगर जरूरी हो तो गर्भ में पल रहे शिशु की रक्षा के लिए चंदन और तुलसी के पत्तों का लेप अवश्य लगाकर निकलें।