GLIBS

कश्मीर में तैनात दो महिला अधिकारी कर रहीं बेखौफ काम, एक अधिकारी छत्तीसगढ़ की

ग्लिब्स टीम  | 13 Aug , 2019 12:25 PM
कश्मीर में तैनात दो महिला अधिकारी कर रहीं बेखौफ काम, एक अधिकारी छत्तीसगढ़ की

नई दिल्ली। छत्तीसगढ़ के दुर्ग की रहने वाली आईपीएस अफसर की नियुक्ति इन दिनों जम्मू कश्मीर के श्रीनगर में है। 28 साल की पीडी नित्या इससे पहले एक सीमेंट कंपनी में प्रबंधक के तौर पर कार्य करती थीं। श्रीनगर के नेहरू पार्क के उप-विभागीय पुलिस अधिकारी नित्या ने कहा, 'नागरिकों को सुरक्षित करने के अलावा मुझे वीवीआइपी लोगों की सुरक्षा की देखरेख करनी होती है। छत्तीसगढ़ की मेरी जिंदगी से काफी अलग है।'उन्हें कई बार गुस्साए लोगों का सामना करना पड़ता है। इसमें रिटेल व्यापारी से लेकर निजी स्कूल के अध्यापक तक शामिल होते हैं। उन्होंने कहा, 'मैं छत्तीसगढ़ के दुर्ग से हूं जहां हमेशा शांतिपूर्ण माहौल रहता है। लेकिन मुझे चुनौतियां पसंद हैं।' वह एक केमिकल इंजीनियर हैं, जो धाराप्रवाह कश्मीरी और हिंदी बोल सकती हैं। वहीं इसके अलावा वह तेलुगू भी अच्छी बोलती हैं।
पीडी नित्या 2016 बैच की आईपीएस अधिकारी हैं। उनकी जिम्मेदारी राम मुंशी बाग और हनव दागजी गांव के क्षेत्रों को देखने की है। 40 किलोमीटर के इस संवेदनशील क्षेत्र में न केवल डल झील का क्षेत्र और राज्यपाल का आवास आता है बल्कि यहीं स्थित इमारतों में वीआईपी लोगों को हिरासत में रखा गया है।
साल 2013 बैच की आईएएस अधिकारी डॉ. सैयद सहरीश असगर ने यह कभी नहीं सोचा था कि उनकी नई जिम्मेदारी कश्मीर घाटी में अपने प्रियजनों से हजारों किलोमीटर दूर बैठे लोगों की उनसे फोन पर बात कराने या उन्हें डॉक्टरों से मिलवाने की होगी। उनकी नियुक्ति जम्मू-कश्मीर प्रशासन में सूचना निदेशक के पद पर हुई है। वैसे तो उनकी भूमिका लोगों को सरकारी योजनाओं की सूचना देना है। लेकिन पिछले आठ दिनों से वह लोगों की परेशानियों को हल कर रही हैं। कश्मीर में धारा 370 हटने और राज्य के विभाजन के बाद अब उनका काम क्राइसिस मैनेजमेंट का हो गया है। 
असगर और नित्या अकेली ऐसी महिला अधिकारी हैं, जिन्हें वर्तमान में घाटी में तैनात किया गया है। बाकी महिला अधिकारियों को या तो जम्मू में या लद्दाख में तैनात किया गया है। असगर एक साल के बेटे की मां हैं। उनके पास एबीबीएस की डिग्री है और वह जम्मू में प्रैक्टिस कर चुकी हैं लेकिन अपनी प्रैक्टिस छोड़कर उन्होंने आईएएस की परीक्षा दी।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.