GLIBS

डॉक्टरों को इतना डर कि अपनी सुरक्षा के लिए बना ली निजी सेना, यह रखा नाम 

ग्लिब्स टीम  | 26 Jun , 2019 06:07 PM
डॉक्टरों को इतना डर कि अपनी सुरक्षा के लिए बना ली निजी सेना, यह रखा नाम 

पटना। चमकी बुखार से हो रही मौत के कारण चर्चा में आया बिहार का मुजफ्फरपुर शहर इन दिनों एक और कारण से सुर्खियां बटोर रहा है। यहां डॉक्टरों ने अपनी सुरक्षा के लिए विशेष इंतजाम कर रखा है। शहर में निजी क्लीनिक और छोटे अस्पताल चलाने वाले डॉक्टरों ने क्यूआरटी यानी 'क्विक रिएक्शन टीम' की व्यवस्था की है। दरअसल, आए दिन डॉक्टरों के साथ मरीजों के परिजनों द्वारा मारपीट की घटनाओं की खबरें आती रहती हैं। इसको देखते हुए मुजफ्फरपुर में भी डॉक्टर डरे हुए हैं। अब अपने बचाव के लिए उन्होंने अपनी खुद की व्यवस्था कर ली है। शहर के कई डॉक्टरों ने पैसे इकठ्ठे कर क्विक रिस्पॉन्स टीम तैयार की है। इन डॉक्टरों का कहना है कि कई बार ऐसा होता है कि सूचना के बाद पुलिस काफी देर से पहुंचती है, तब तक हालात काफी बिगड़ चुके होते हैं। ऐसी स्थिति में क्विक रिस्पॉन्स टीम उनकी सुरक्षा करेगी। क्यूआरटी में 20 से 25 सुरक्षाकर्मी हैं। ये सुरक्षाकर्मी डॉक्टरों की एक कॉल पर तुरंत रिस्पांस करते हैं। इस टीम में आर्मी के रिटायर जवान होंगे। सिक्योरिटी एजेंसी के ये जवान डॉक्टरों की सुरक्षा करेंगे। इसके लिए इन्हें बाइक भी मुहैया कराई गई है। टीम में शामिल सुरक्षाकर्मी हर वक्त चौकन्ना रहता है। जैसे ही किसी डॉक्टर के पास से खतरे की सूचना आती है तो टीम के सदस्य तुरंत वहां पहुंचते हैं और मरीज के परिजनों को हिंसा करने से रोकते हैं। मुजफ्फरपुर की तर्ज पर ही मोतिहारी और सीतामढ़ी में भी डॉक्टरों ने सुरक्षा का यही कारगर तरीका अपनाया है। बड़े अस्पतालों और निजी कॉलेजों में जहां अपने सुरक्षा गार्ड तैनात हैं तो वहीं छोटे अस्पतालों ने क्यूआरटी हायर कर रखा है।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.