GLIBS

रहवासी इलाके में निगम ने बना दिया एसएलआर सेंटर

किशोर महंत  | 06 Dec , 2018 10:11 PM
रहवासी इलाके में निगम ने बना दिया एसएलआर सेंटर

कोरबा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अति महत्वाकांक्षी स्वच्छ भारत अभियान के तहत कोरबा के पम्प हाउस मैगजीन भांठा और पंद्रह ब्लॉक के लोगों के लिए  मुसीबत बन गया है। निगम के वार्डों से निकलने वाला कचरा यहीं डंप कर दिया जाता है। पूरा इलाका कचरों से उठने वाली सड़ांध से परेशान है।  दरअसल निगम में जोगेश लाम्बा के महापौर रहते पंद्रह ब्लाक और पम्प हाउस मैगजीन भांठा के बीच आवारा मवेशियों और दूसरे जानवरों के लिए ठिकाने के तौर पर केंद्र बनाया गया था। कई सालों तक यह केंद्र खाली रहा। लिहाजा नगर निगम ने इसे मणिकांचन केंद्र के रूप में इस्तेमाल शुरू कर दिया और इस तरह सफाईकर्मी विभिन्न वार्डों का गीला-सूखा कचरा यहीं डंप करने लगे। अब आलम यह है कि कचरों के इस अम्बार से उठने वाली सड़ांध की वजह से यहां के रहवासियों का जीना दुश्वार हो गया है। लोग बताते हैं कि इस सड़ांध की वजह से उनके यहां मेहमानों ने भी आना बंद कर दिया है। यहां से गुजरने वाले लोग मुंह ढंककर गुजरते हैं। इस गन्दगी से कई तरह की गंभीर बीमारियों का खतरा भी बना हुआ है। इस केंद्र के बगल में ही गुरु घासीदास जी के नाम पर एक निजी स्कूल संचालित है। इस स्कूल के बच्चे पूरे दिन मुंह ढंककर पढ़ाई करने पर मजबूर हैं। स्कूल स्टाफ  का कहना है कि कचरों से उठने वाली तेज सड़ांध से उन्हें भारी दिक्कतें पेश आती हैं। एसएलआर सेंटर की वजह से ही पूरे क्षेत्र में मच्छरों का प्रकोप भी तेजी से फैला है। इसकी शिकायत नगर निगम के अधिकारियों से कई दफे की जा चुकी है लेकिन न निगम के अफसर इस केंद्र को हटाने पर कोई गंभीरता दिखा रहे हंै और न ही जनप्रतिनिधियों को क्षेत्र के लोगों की सेहत से कोई सरोकार है।