GLIBS

Strike : मजदूरों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल का कोरबा में रहा आंशिक असर

किशोर महंत  | 08 Jan , 2019 03:59 PM
Strike : मजदूरों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल का कोरबा में रहा आंशिक असर

कोरबा। कोयला उद्योग से जुड़ी केन्द्रीय नीतियों को लेकर ट्रेड यूनियनों की ओर 8 और 9 जनवरी को देशव्यापी हड़ताल का आव्हान किया है। इसमें एसईसीएल की स्थानीय खदानें शामिल रहीं। कुछ परियोजनाओं में हड़ताल की सफलता का दावा किया गया। हड़ताल का आंशिक असर रहा, वहीं अनेक स्थानों पर हड़ताल फ्लॉप रही। बैंक और बीमा कार्यालय में कामकाज बाधित रहा।

कोरबा के बीकेकेएमएस और इंटक को छोड़ एचएमएस, सीटू, एटक, एक्टू जैसी यूनियन हड़ताल में शामिल रहे। कोरबा जिले में एसईसीएल के कोरबा, कुसमुंडा, गेवरा और दीपका विस्तार क्षेत्र की परियोजनाओं में होने वाले कोयला उत्पादन व प्रेषण को बाधित करने का प्रयास किया गया। हालांकि हर तरफ वातावरण पक्ष में नहीं रहा। इंटक नेता विकास सिंह सहित दीपेश मिश्रा, ए.विश्वास, राजू श्रीवास्तव, सुभाष सिंह, मनहरण पटेल ने प्रदर्शन के दौरान नेतृत्व किया। सिंघाली, ढेलवाडीह, बलगी, रजगामार आदि क्षेत्रों में उत्पादन के सामान्य होने की जानकारी है। कुसमुंडा में उत्पादन सामान्य रूप से जारी रहा लेकिन आउट सोर्सिंग पर किए जाने वाले ओव्हरबर्डन में गतिरोध होने की खबर है। एसईसीएल की लाभकारी परियोजना में शामिल गेवरा और दीपका विस्तार खदानों में उत्पादन पर हड़ताल का आंशिक प्रभाव की जानकारी है। एसईसीएल दीपका विस्तार क्षेत्र के मुख्य महाप्रबंधक एनके सिंह ने बताया कि हड़ताल के कारण कुछ हद तक यहां उत्पादन प्रभावित हुआ है। कोरबा में बैंक खुले जरूर लेकिन हड़ताल का हवाला देकर कर्मियों ने सामान्य कामकाज में हाथ नहीं डाला। टीपी नगर स्थित ओबीसी के अधिकारी ने बताया कि आज की हड़ताल प्रस्तावित है। वहीं एलआईसी ब्रांच 2 के सामने कर्मियों ने नारेबाजी की। राष्ट्रव्यापी हड़ताल में एसकेएमएस, एचएमएस और केएसएस शामिल है। इन तीनों संगठनों के पदाधिकारी सभी स्थानों पर हड़ताल में शामिल हो रहे हैं। 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.