GLIBS

Niharika Barik : कैम्प लगाकर की जाए कुष्ठ रोगियों की सर्जरी : स्वास्थ्य सचिव निहारिका बारिक

किशन लाल  | 07 Dec , 2018 04:34 PM
Niharika Barik : कैम्प लगाकर की जाए कुष्ठ रोगियों की सर्जरी : स्वास्थ्य सचिव निहारिका बारिक

रायपुर। प्रदेश की स्वास्थ्य व्यवस्था व निचले स्तर पर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराए जाने की जानकारी लेने शुक्रवार को यहां मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों तथा जिला कार्यक्रम प्रबंधकों की समीक्षा बैठक स्वास्थ्य सचिव निहारिका बारिक की अध्यक्षता में की गई। इस अवसर पर आयुक्त स्वास्थ्य आर प्रसन्ना, मिशन संचालक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन व संचालक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण डॉ. सर्वेश्वर  नरेंद्र भूरे , संचालक महामारी नियंत्रक व परियोजना संचालक छत्तीसगढ़ राज्य एड्स नियंत्रण समिति डॉ. आर. आर. साहनी, राज्य नोडल अधिकारी, उप संचालक सहित राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन व स्वास्थ्य अधिकारी उपस्थित थे। स्वास्थ्य सचिव निहारिका बारिक ने कहा कि हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर में सभी प्रकार की दवाइयां उपलब्ध हैं। इसकी जानकारी जनसमुदाय को दी जाए। उन्होंने सभी हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर में नियमित योग प्रशिक्षण की व्यवस्था करने के निर्देश दिए।

बैठक में कोरबा जिले की हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर की भौतिक व वित्तीय प्रगति की सराहना की गई। बैठक में राजनांदगांव में मोबाइल मेडिकल यूनिट की उपलब्धि बेहतर होने पर सम्मानित किया गया। निहारिका बारिक ने कहा कि राष्ट्रीय कुष्ठ नियंत्रण कार्यक्रम अंतर्गत रायगढ़ व जांजगीर जिले में कुष्ठ रोगियों की संख्या अधिक होने पर वहां माइक्रो प्लान तैयार कर स्वास्थ्य विभाग की एनएमए व एनएमएस की ड्यूटी रोस्टर अनुसार लगाई जाए। कुष्ठ रोगियों के लिए कैम्प लगाकर सर्जरी की जाए। रोगियों के लिए फिजियोथेरेपिस्ट की व्यवस्था की जाए। बलौदाबाजार जिले को कुष्ठ रोगियों की बेहतरी के लिए उत्कृष्ट कार्य करने के लिए सम्मानित किया गया। निहारिका बारिक ने कहा कि निजी चिकित्सकों व टीबी के मरीजों को प्रोत्साहन राशि प्रदाय करते हुए प्रतिदिन कार्यक्रम की समीक्षा की जाए। सभी टीबी मरीजों की एचआईवी जांच अनिवार्यत: की जाए।

राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम अंतर्गत मलेरिया कार्यक्रम की समीक्षा करते हुए स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि ब्लाक स्तर पर मलेरिया की समीक्षा की जाए। गर्भवती माताओं की एएनसी जांच में मलेरिया की जांच अनिवार्यत: किए जाएं। उन्होंने शिशु स्वास्थ्य पीएनडीटी एक्ट राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम, टीकाकरण परिवार कल्याण कार्यक्रम, ब्लड बैंकों तथा एड्स नियंत्रण कार्यक्रम की समीक्षा जिलेवार की।