GLIBS

चिटफंड कंपनी सर्वमंगला प्रापर्टी इंडिया लिमिटेड की संपत्ति कुर्की का अंतरिम आदेश जारी

मुकेश पाण्डेय  | 19 Jun , 2019 10:02 PM
चिटफंड कंपनी सर्वमंगला प्रापर्टी इंडिया लिमिटेड की संपत्ति कुर्की का अंतरिम आदेश जारी

कोरबा। जिला दण्डाधिकारी किरण कौशल द्वारा एमपी नगर कोरबा स्थित चिटफंड कंपनी सर्वमंगला प्रापर्टी इंडिया लिमिटेड की ग्राम कोथारी स्थित 64 डिसमिल जमीन की कुर्की का अंतरिम आदेश जारी कर दिया गया है। करतला के तहसीलदार को इस भूमि का आधिपत्य भी तत्काल प्राप्त कर सूचित करने के निर्देश जारी किये गये हैं। चिटफंड कंपनी सर्वमंगला प्रापर्टी इंडिया लिमिटेड के विरूद्ध कोरबा जिले की रामपुर पुलिस चौकी में धारा 420, 406, 409, 120 बी 34 भादवि 3, 4, 5, इनामी चिट एवं धन परिचालन अधिनियम निक्षेपकों की हितों की सरंक्षण अधिनियम की धारा 105 के तहत अपराध पंजीबद्ध है।  उक्त संबंध में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट कोरबा के न्यायालय में भी प्रकरण विचाराधीन है। न्यायालय द्वारा अंतिम आदेश जारी हो जाने पर संपत्तियों की कुर्की की जायेगी। 
       प्रकरण के संबंध में प्राप्त जानकारी के अनुसार सर्वमंगला प्रापर्टी इंडिया लिमिटेड कोरबा के संचालकों ब्रजकिशोर भट्ट, रामकिशोर चौहान, अशोकवास, विष्णु प्रसाद चौधरी, शांतिदास मानिकपुरी, रामसागर प्रजापति द्वारा सैकड़ों लोगों से दुगुना ब्याज देने की बात कहकर पैसा जमा करवाया गया और उक्त पैसे की धोखाधड़ी कर कंपनी का कार्यालय बंद कर फरार हो गये। संबंधित कंपनी के संचालकों के विरूद्ध धोखाधड़ी कर पैसे की गबन की रिपोर्ट पुलिस चौकी रामपुर थाना कोतवाली कोरबा में अपराध क्रमांक 102/2016 के रूप में दर्ज कराई गई है। इस चिटफंड कंपनी की स्वामित्व की संपत्ति की पतासाजी करने पर करतला तहसील के ग्राम कोथारी पटवारी हल्का नंबर 12 में खसरा नंबर 124 पर भूमि रकबा 0.259 हेक्टेयर (0.64 एकड़) राजस्व रिकार्ड में कंपनी के संचालक के नाम दर्ज होना पाया गया है। यह भूमि चांपा-कोरबा मुख्य मार्ग पर है। वर्तमान में इस भूमि में से 0.048 हेक्टेयर भूमि चांपा-कोरबा राष्ट्रीय राजमार्ग के लिए अर्जन हेतु प्रस्तावित है। जिला दण्डाधिकारी किरण कौशल ने इस चिटफंड कंपनी में अपना पैसा जमा करने वाले निवेशकों की जमा राशि वापस लौटाने के लिए संपत्ति की कुर्की का अंतरिम आदेश जारी किया है।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.