GLIBS

कर्जमाफी की राशि का छेदी, लाला व रंजित ने खेत, मकान  और पढ़ाई में किया उपयोग

कर्जमाफी की राशि का छेदी, लाला व रंजित ने खेत, मकान  और पढ़ाई में किया उपयोग

मुंगेली।  किसानों के ऋण माफी हो जाने से कर्ज चुकाने की चिंता दूर हो गई है। लिए गए ऋण माफ हो जाने से किसानों को जीने के लिए ताकत मिली है। किसान कर्जमाफी की राशि को खेत मरम्मत, पक्का मकान बनाने, बच्चों की पढ़ाई में उपयोग कर रहे हैं। मुंगेली जिले के पथरिया विकासखण्ड के ग्राम बछेरा के 62 वर्षीय कृषक छेदीराम साहू ने बताया कि उन्हें 1 लाख 30 हजार रुपए ऋण माफी का लाभ मिला है। इस वर्ष शासन द्वारा निर्धारित समर्थन मूल्य पर धान की बिक्री भी की है। उन्होंने बताया कि कर्जमाफी के पैसे से खेत मरम्मत, मकान बनवाने में सदुपयोग किया है। पत्नी के लिए गहने भी खरीदे हैं। मुंगेली विकासखण्ड के ग्राम चकरभाठा के 29 वर्षीय कृषक लालाराम साहू ने बताया कि सोसायटी से 60 हजार रुपए नगद, 25 हजार रुपए की खाद लिए थे। कर्ज माफी योजना से उन्हें 85 हजार रुपए का फायदा मिला है। उन्होंने बताया कि उनके पास 8 एकड़ जमीन है, उनका एक लड़का और एक लड़की है। इस प्रकार कर्ज माफी की राशि खेत मरम्मत और बच्चों की पढ़ाई में काम आया। इसी तरह ग्राम सुरदा के रंजित पटेल ने बताया कि उन्हें 8 हजार 500 रुपए कर्जमाफी का लाभ मिला है। पुराना कर्ज भी चुका दिया है, अब चिंता दूर हो गई है। उन्होंने बताया कि इस वर्ष भी सहकारी बैंक से किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से 8 हजार 500 रुपए का ऋण लिया है। रंजित ने बताया कि उनके पास मात्र 70 डिसमिल जमीन है। कर्जमाफी की राशि से घर परिवार की माली हालत सुधारने और कृषि कार्य में खर्च किया है। लाभान्वित किसानों ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को धन्यवाद दे रहे है और शासन की कर्ज माफी योजना की सराहना भी कर रहे हंै।