GLIBS

संस्कृत पाठशाला भवन के जीर्णोद्धार के लिए हुआ भूमिपूजन  

श्रवण यदु  | 12 Jun , 2019 07:25 PM
संस्कृत पाठशाला भवन के जीर्णोद्धार के लिए हुआ भूमिपूजन  

रायपुर। गंगा दशहरा के पावन अवसर पर श्री दूधाधारी मठ रायपुर द्वारा स्थापित संस्कृत पाठशाला भवन के जीर्णोद्धार के लिए आज भूमिपूजन हुआ। बता दें कि इस पाठशाला की स्थापना 1936 में की गई थी। इस अवसर पर रायपुर ग्रामीण विधायक सत्यनारायण शर्मा, महापौर श्री प्रमोद दुबे सहित दूधाधारी मठ मंदिर के ट्रस्टियों की उपस्थिति रही। कार्यक्रम में संबोधन देते हुए ग्रामीण विधायक शर्मा ने कहा कि राजेश्री महंत रामसुन्दर दास ने जब से मठाधीश के पद को धारण किया है तब से मठ मंदिर एवं इससे जुड़ी हुई संस्थाओं का उत्तरोत्तर विकास हुआ है। राजेश्री महंत रामसुन्दर दास ने कहा कि  देववाणी संस्कृत के उत्थान, प्रचार, प्रसार एवं विकास के लिये इनके गुरुदेव राजेश्री महंत वैष्णव दास ने यहां संस्कृत विद्यालय की स्थापना की थी। यह भवन काफी जर्जर हो चुका था। इसके पुनर्निर्माण की आवश्यकता सबको महसूस हो रही थी। इसके निर्माण हेतु आज भूमिपूजन किया गया है। महापौर प्रमोद दुबे ने कहा कि संस्कृत भाषा के विकास के लिये निर्मित होने जा रहे इस भवन के भूमिपूजन में उपस्थित होने का सौभाग्य मिलना भगवान श्री बालाजी की असीम कृपा है। उपस्थित जनसमूह को वरिष्ठ पत्रकार  ललित सुरजन एवं सामाजिक कार्यकर्ता  व्ही पार्थ सारथीराव ने भी संबोधन दिया। इस अवसर पर मुख्य रूप से निगम जोन 6 अध्यक्ष एवं महामाया मंदिर वार्ड पार्षद सालिक सिंह ठाकुर, रायपुर शहर जिला कांग्रेस अध्यक्ष गिरीश दुबे, सामाजिक कार्यकर्ता विजय कुमार पाली, अजय तिवारी, अवनिंद्र ठाकुर, मंगल विनोद अग्रवाल सहित बड़ी संख्या में गणमान्यजन उपस्थित थे। इस अवसर पर विधिवत पूजा अर्चना का कार्य संस्कृत विद्यालय के प्रधानाचार्य पंडित कृष्ण वल्लभ शर्मा के निर्देशन में संपन्न हुआ।