GLIBS

संसदीय सचिव रेखचंद जैन से व्हील चेयर पाकर खुशी से झूम उठा युवराज,अब खुद पहुंचेगा अपनी मंजिल तक

रविशंकर शर्मा  | 25 Nov , 2020 09:35 PM
संसदीय सचिव रेखचंद जैन से व्हील चेयर पाकर खुशी से झूम उठा युवराज,अब खुद पहुंचेगा अपनी मंजिल तक

रायपुर। विधायक जगदलपुर एवं संसदीय सचिव रेखचंद जैन की संवेदनशील पहल से दिव्यांगों के चेहरों पर मुस्कान लौट रही है। संसदीय सचिव जैन न केवल उन तक आने वालों को सहारा प्रदान कर रहे हैं,बल्कि पता चलते ही घर तक पहुंचकर व्हील चेयर भेंट कर रहे हैं। ऐसा ही नजारा देखने को मिला, जब संसदीय सचिव तक पहुंचे दिव्यांग को न केवल उन्होंने व्हील चेयर भेंट की, बल्कि उसके साथ चलकर उसका हौसला बढ़ाया। खुद के प्रयास से पूरी दूरी तय कर दिव्यांग युवक का मनोबल बढ़ा। हम बात कर रहे हैं दिव्यांग युवराज बघेल की। संसदीय सचिव के हाथों नई व्हील चेयर पाकर युवराज खुशी से झूम उठा। युवराज बघेल की पुरानी व्हील चेयर खराब हो गई थी। उसे दूसरों का सहारा लेना पड़ता था। अब उसे नई व्हील चेयर मिल गई है। बता दें कि युवराज की माता भी  दिव्यांग है। युवराज हुनरमंद भी है। संसदीय सचिव, युवराज के हुनर को देखकर बहुत खुश हुए। उन्होंने काष्ठकला के लिए भी मदद देने की बात कही। इस दौरान पार्षद पंचराज सिंह और सुखराम सहित समाजसेवी अनिल बवेजा भी मौजूद थे।

 

 


नई व्हील चेयर पर बैठकर युवराज ने खुद चलाकर देखा। उसे किसी के सहारे की जरूरत महसूस नहीं हुई। खुद संसदीय सचिव रेखचंद उसके साथ चले और युवराज का हौसला बढ़ाया। चढ़ाई में भी बड़ी आसानी से युवराज ने व्हील चेयर को चलाया। युवराज ने संसदीय सचिव व विधायक रेखचंद जैन से मिली व्हील चेयर के लिए उनका आभार माना है। युवराज ने कहा कि नई व्हील चेयर मिलने से उसे बहुत अच्छा लग रहा है। पुरानी व्हील चेयर से ये काफी बेहतर है। यह उसके लिए बहुत बड़ी खुशी की बात है। उसने कहा कि पुरानी व्हील चेयर में कुछ कदम जाने में दूसरे के सहारे की आवश्यकता महसूस होती थी। अब वह खुद आगे जा सकता है। युवराज ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और संसदीय सचिव को नई व्हील चेयर के लिए धन्यवाद  दिया।


बता दें कि जगदलपुर जनपद पंचायत क्षेत्र के हाटपदमूर के दिव्यांग युवक की भी परेशानी का पता चलते ही एक घंटे में  संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने मदद की। अब उसे स्कूल आने-जाने में किसी प्रकार की दिक्कत नहीं होगी। आठवीं कक्षा में अध्ययनरत छात्र भोला दिव्यांग है। उसे पढ़ाई-लिखाई करने जाने में असुविधा होती थी। कांग्रेसी कार्यकर्ताओं से मिली सूचना पर संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने मदद दी थी। दिव्यांग भोलाराम के चेहरे पर व्हील चेयर मिलने की खुशी साफ झलक रही थी। दिव्यांग नीरा बाई की भी खुशियों का ठिकाना नहीं रहा जब संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने उसे व्हील चेयर भेंट की। ग्राम पंचायत टोंडापाल के नवागुड़ा में संसदीय सचिव रेखचंद जैन के सामने एक दिव्यांग बच्ची की जानकारी सामने आई थी। संसदीय सचिव रेखचंद जैन उस दिन नीरा के घर पहुंचे और उसकी व्यथा को देखते हुए व्हील चेयर देने की बात कही थी। एक हफ्ते के भीतर व्हील चेयर भेंट कर उन्होंने अपना वादा पूरा किया। 18 नवंबर को संसदीय सचिव रेखचंद जैन स्वयं व्हील चेयर लेकर टोंडापाल के नवागुड़ा पहुंचे और दिव्यांग नीरा को अपने हाथों से व्हील चेयर में बिठाया।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.