GLIBS

विश्व स्वास्थ्य संगठन की टीम लेगी एचआईवी व टीबी नियंत्रण कार्यक्रमों का जायजा

राहुल चौबे  | 08 Nov , 2019 08:11 PM
विश्व स्वास्थ्य संगठन की टीम लेगी एचआईवी व टीबी नियंत्रण कार्यक्रमों का जायजा

रायपुर। प्रदेश में स्वास्थ्य विभाग द्वारा संचालित एचआईवी व टीबी कार्यक्रम के तहत मरीजों की खोज एवं इलाज सहित सभी गतिविधियों का जायजा लेने विश्व स्वास्थ्य संगठन की टीम रायपुर व बिलासपुर का दौरा करेगी। प्रवास के दौरान टीम राज्य में एचआईवी–टीबी कार्यक्रम के साथ संचालित आईसीटीसी / पीपीटीसीटी / एआरटी केंद्र / एसटीआई केंद्र का निरीक्षण भी करेगी। छत्तीसगढ़ राज्य एड्स नियंत्रण कार्यक्रम के परियोजना संचालक डॉ. एसके बिंझवार ने बताया कि ज्वाइंट मॉनेटरिंग मिशन की टीम भारत सरकार एवं विश्व स्वास्थ्य संगठन के राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय संगठन के अधिकारी छत्तीसगढ़ प्रवास पर राजधानी आएंगे। ज्वाइंट मॉनेटरिंग मिशन की टीम 11 से 14 नवंबर तक प्रदेश में ही रहेगी। ज्वाइंट मॉनेटरिंग मिशन की टीम में 15 सदस्य भारत सरकार स्वास्थ्य मंत्रालय के होंगे। वहीं 15 सदस्य डब्लूएचओ से हेल्थ विभाग के होंगे । मॉनिटरिंग के लिए बिलासपुर व रायपुर के लिए दो टीम बनेगी जिसमें आधे-आधे सदस्य रहेंगे। 11 नवंबर को टीम राजधानी पहुंचकर स्वास्थ्य विभाग के आला अफसरों से मुलाकात करेगी। इसके बाद एक टीम  बिलासपुर के लिए रवाना हो जाएगी। रायपुर व बिलासपुर में 12 से 14 नवंबर तक तीन दिन टीम अस्पतालों के अलावा हितग्राहियों से मुलाकात करेगी। निरीक्षण के दौरान एड्स व टीबी कार्यक्रमों को लेकर फिल्ड स्तर पर मिलने वाली खामियों व उपलब्धियों की पूरी रिपोर्ट जिलों के कलेक्टर को सौंपी जाएगी। वहीं केंद्र सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय और डब्लूएचओ को भी छत्तीसगढ में एचआईव्ही व टीबी के नियंत्रण के लिए इलाज व बचाव में संचालित योजनाओं के क्रियांवयन की रिपोर्ट टीम सौंपेगी। रायपुर सीएमएचओ डॉ मीरा बघेल ने बताया कि एड्स और क्षय रोग के नियंत्रण के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा मेडिकल कॉलेज, जिला अस्पताल, और टीबी अस्पताल में संचालित योजनाओं का निरीक्षण भी  टीम करेगी। केंद्र व राज्य सरकार द्वारा विश्व स्वास्थ्य संगठन के दिशा निर्देशों के अनुरुप एड्स और क्षय रोगों के नियंत्रण को लेकर  मिलने वाली स्वास्थ्य सुविधाओं का जायजा लेगी।  

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.