GLIBS

मिनपा मुठभेड़ में नक्सलियों को खदेड़ने वाले वीर जवानों पर हमें गर्व है : पी सुंदरराज

हर्षित शर्मा  | 24 Mar , 2020 08:09 PM
मिनपा मुठभेड़ में नक्सलियों को खदेड़ने वाले वीर जवानों पर हमें गर्व है : पी सुंदरराज

रायपुर। मिनपा नक्सली मुठभेड़ पर बस्तर आईजी पी सुंदरराज ने बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने कहा कि मुठभेड़ में 15 से अधिक माओवादी मारे गए हैं। साथ ही 20 से अधिक सीआरसी कम्पनी और पीएलजीए के नक्सली भी घायल हुए हैं। बस्तर आईजी ने कहा कि डीआरजी के जवानों ने नक्सलियों से 20 से 25 मीटर की दूरी से मुकाबला किया। जल्द ही मारे गए नक्सलियों के नामों की तस्दीक कर ली जाएगी। उन्होंने कहा कि 21 मार्च को जिला सुकमा के चिंतागुफा-बुरकापाल क्षेत्रांतर्गत मिनपा-एलमागुड़ा-कोराजडोंगरी के जंगलों में सीपीआई माओवादी नक्सलियों की मौजूदगी की जानकारी होने पर चिंतागुफा और बुरकापाल कैम्प से DRG/STF/CoBRA का संयुक्त बल नक्सल अभियान के लिए रवाना हुआ था। दोपहर लगभग 1.30 बजे कोराजडोंगरी पहाड़ एवं मिनपा जंगल के पास सुरक्षाबलों एवं नक्सलियों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई। कोराजडोंगरी पहाड़ के पास हुई मुठभेड़ में DRG/STF/CoBRA द्वारा की गई जवाबी कार्यवाही के 40 मिनट बाद मुठभेड़ में लगभग 6 नक्सली जख्मी हुए जिन्हें माओवादी द्वारा कव्हरिंग फायर देते हुये अपने साथ लेकर Retreat हो गए। 


इस दौरान बुरकापाल DRG/STF ने कम से कम 8 माओवादियों को मार गिराया लेकिन लगातार गोलीबारी होने से माओवादियों का शव व हथियार तत्काल बरामद नहीं किया गया। DRG/STF के कुछ जवान माओवादियों की गोली और ग्रेनेड लगने से घायल हो गये। इसके बावजूद भी जवानों द्वारा लड़ाई को निर्णायक मोड़ तक ले जाने के उद्देश्य से घायल व बाकी साथियों द्वारा नक्सलियों से मात्र 20-25 मीटर की दूरी में पहुंचकर कई माओवादियों को मार गिराया गया। विगत वर्षों में यह पहला अवसर है कि जिसमें सुरक्षाबल-माओवादियों के बीच आमने-सामने की युद्ध जैसी परिस्थिति में मुठभेड़ हुई। अभी तक विभिन्न सुत्रों से प्राप्त जानकारी अनुसार माओवादियों के बटालियन नंम्बर 1, CRC कंपनी एवं PLGA प्लाटून के कम से कम 15 से अधिक माओवादी मारे जाने तथा 20 से अधिक माओवादी गंभीर रूप से घायल होने की जानकारी प्राप्त हो रही है, जिन्हें तस्दीक किया जाकर बहुत जल्द उसका नाम विवरण सार्वजनिक किया जायेगा।
पी सुन्दरराज ने कहा कि हमें अफसोस है कि 17 वीर जवानों को हमने खो दिया है लेकिन उनकी शहादत और वीरता पर बस्तर पुलिस परिवार पर अत्यंत ही गर्व है। शहीद के परिजनों को सभी प्रकार सहायता के लिए हमारे विभाग संकल्पित है।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.