GLIBS

विकास उपाध्याय ने राम मंदिर शिलान्यास के दिन को यादगार बनाने किए विविध आयोजन, रायपुर हुआ राममय

रविशंकर शर्मा  | 05 Aug , 2020 10:56 PM
विकास उपाध्याय ने राम मंदिर शिलान्यास के दिन को यादगार बनाने किए विविध आयोजन, रायपुर हुआ राममय

रायपुर। विधायक व संसदीय सचिव विकास उपाध्याय ने बुधवार को प्रभु राम के अयोध्या में मंदिर निर्माण की आधारशिला रखे जाने को रायपुर में भी जीवंत बनाए रखने सुबह से कई कार्यक्रम आयोजित किए। माता कौशल्या की इस धरती को राममय बनाने कोई कसर नहीं छोड़ी। श्रीराम के अयोध्या में हुए मंदिर निर्माण की आधारशिला को यादगार बनाए रखने पिछले कई दिनों से दिन रात मेहनत की। राजधानी में एक लाख से भी ज्यादा मिट्टी के दीये वितरण कर आम जनता से अपील की। सभी को कहा कि वे आज अपने घरों में कौशल्या के राम के नाम एक दीया जरूर जलाएं। आज इस अपील का व्यापक असर राजधानी रायपुर में तो देखने को मिली ही, साथ ही पूरे छत्तीसगढ़ में भी लोगों ने कई कार्यक्रम आयोजित किए। शाम को तेज बारिश के बावजूद दिये कि रोशनी से पूरा छत्तीसगढ़ जगमगा उठा। विकास उपाध्याय ने सुबह से ही विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए। दूधाधारी मठ से इसकी शुरुआत भजन प्रभात से की। छत्तीसगढ़ में माता कौशल्या के मंदिर से जुड़े वाक्ये पर प्रकाश डालते हुए भजन सम्राट दिलीप षडंगी ने स्वयं रचित जस गीत गाकर सभी का मनमोह लिया। घंटों चले इस कार्यक्रम में विधायक उपाध्याय इस कदर भक्ति भाव में खो गए कि मंच में काफी समय तक थिरकते रहे। यह दर्शकों के लिए कौतूहल का विषय बना रहा। भजन प्रभात में विशेष रूप से महंत रामसुंदर दास पूरे समय उपस्थित थे।
इसके बाद विकास उपाध्याय के निवास पर भगवान राम को स्मरण करने 21 पंडितों से सुंदरकांड का पाठ करा कर प्रसाद वितरण किया। भगवान राम के नारों के साथ सभी से उनके दिखाए मार्ग पर चलने की अपील की। इस मौके पर विशेष रूप से संसदीय सचिव चिंतामणि महाराज उपस्थित हुए। शाम को पूरे शहर में दीप प्रज्वलित किए गए। विधायक उपाध्याय ने सभी लोगों से मिलकर राम जन्मभूमि में आज मंदिर निर्माण की आधारशिला रखे जाने की बधाई दी। आज के कार्यक्रम में कार्यकर्ताओं के साथ-साथ विशिष्ट लोगों में राज्यसभा सांसद छाया वर्मा,पूर्व विधायक प्रतिमा चंद्राकर भी उपस्थित हुईं। इसके अलावा प्रशांत ठाकर, तारिक खान गिनी और पंडित वीरेन्द्र शुक्ला भी उपस्थित थे।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.