GLIBS

सीएम बघेल के मार्गदर्शन में "अस्थि कलश यात्रा" को सफल बनाकर कांग्रेसी पदाधिकारियों ने जीता जनता का दिल

राहुल चौबे  | 02 Jun , 2020 07:49 PM
सीएम बघेल के मार्गदर्शन में

रायपुर/बिलासपुर। करीब 2 महीने से भी अधिक समय से पूरे देश के लोग लॉकडाउन की सख्ती से जूझ रहे हैं। इस दौरान अंतिम यात्रा में अधिक से अधिक मात्र 20 लोगों की मौजूदगी देने के सख्त नियमों और कहीं भी आने-जाने की पाबंदी के कारण लोग इस दौरान स्वर्गवासी हुए अपने परिजनों की अस्थियां परंपरा अनुसार प्रयागराज जाकर पुण्य सलिला गंगा में प्रवाहित नहीं कर सके। अस्थि विसर्जन के लिए प्रयागराज जाने की परंपरा कई पुश्तों से पूरे देश की तरह छत्तीसगढ़ में भी चल रही है। लेकिन लॉक डाउन के दौरान कहीं भी आने-जाने की सख्त मनाही और ट्रेनों बसों की आवाजाही प्रतिबंधित होने के कारण लोग चाहकर भी अपने स्वर्गवासी परिजनों की अस्थियां गंगा में विसर्जित करने के लिए प्रयागराज नहीं ले जा पाए। ऐसे तमाम लोगों के भावनात्मक लगाव को महसूस करके प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा अस्थि कलश यात्रा की योजना बनाई गई। बिलासपुर में उसे सफल बनाने में प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष अटल श्रीवास्तव, जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय केशरवानी,नगर निगम के महापौर रामचरण यादव, जिला पंचायत के अध्यक्ष अरुण सिंह चौहान, अभय नारायण राय, नगर निगम के सभापति शेख नजीरुद्दीन, राजेश शुक्ला शहर कांग्रेस अध्यक्ष प्रमोद नायक व राजेंद्र शुक्ला समेत सभी कांग्रेसजनों ने समर्पित भाव से काम कर सफल बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। उसका ही परिणाम था कि आज, मंगलवार दो जून की शाम को बिलासपुर के कांग्रेस भवन से अस्थि कलश लेकर प्रयागराज गई दो बसों में 36 से भी अधिक लोग अपने स्वर्गवासी परिजनों की अस्थियां लेकर रवाना हुए। इनकी रवानगी के पूर्व प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष अटल श्रीवास्तव, जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय केशरवानी ,महापौर रामशरण यादव आदि ने कांग्रेस भवन के सामने अस्थिकलशों की पूजा कर प्रयागराज जाने वाले लोगों को रवाना किया गया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की लीक से हटकर की गई इस पहल की, उनके धुर विरोधी भी सराहना कर रहे हैं। बस समेत सभी जाने वालों की प्रशासकीय अनुमति भी कराई गई। अस्थि कलश यात्रा में प्रयागराज आ रही बसों की बकायदा प्रशासनिक स्वीकृति ली गई है। विजय केशरवानी ने बताया कि बस के साथ ही उसमें जाने वाले सभी लोगों की भी नाम सहित प्रशासनिक अनुमति ली गई है।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.