GLIBS

सोच,समझ व सहानुभूति व्यक्तित्व विकास के आरंभिक तत्व: भोजराम पटेल

नरेश भीमगज  | 17 Dec , 2019 08:02 PM
सोच,समझ व सहानुभूति व्यक्तित्व विकास के आरंभिक तत्व: भोजराम पटेल

कांकेर। भानुप्रतापदेव शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय, कांकेर के राष्ट्रीय सेवा योजना की पुरुष व महिला दोनों इकाइयों की संयुक्त सात दिवसीय विशेष शिविर के तृतीय दिवस स्वयंसेवकों ने प्रभात फेरी के पश्चात् परियोजना कार्य के अंतर्गत शिविर स्थल बागोड़ ग्राम के सरार तालाब व विद्यालय के आस-पास विस्तृत सफाई अभियान चलाया। भोजन के पश्चात् बौद्धिक चर्चा में कांकेर जिले के एसपी भोजराम पटेल विशिष्ट वक्ता के रूप में उपस्थित हुए। उन्होंने व्यक्तित्व विकास व कैरियर निर्माण विषय पर अपना वक्तव्य देते हुए कहा कि मैंने पुलिस सेवा के पहले लगभग 6 वर्ष अध्यापन किया है। लेकिन मैं शिक्षक नहीं विद्यार्थी हूँ और जीवन भर विद्यार्थी रहूँगा। उन्होंने विद्यार्थियों को बताया कि यदि आप को पहले से अपने कार्य योजना के बारे में पता होगा तो कार्य आसानी से और तय समय में संपन्न होगा। साथ ही उन्होंने ‘मै’ के बजाय ‘हम’ को व्यक्तित्व विकास का मूल बताया,इसके लिए स्वामी विवेकानंद के कथन ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ की अवधारणा को आत्मसात करने पर जोर दिया।

उन्होंने कैरियर निर्माण के लिए समय को सबसे महत्त्वपूर्ण व मूल्यवान पूंजी बताते हुए इसे संरक्षित करने के लिए प्रेरित किया और सोच,समझ व सहानुभूति को व्यक्तित्व विकास का आरंभिक तत्व बताया। कांकेर के सहायक उपनिरीक्षक केजूराम रावत भी इस सत्र के वक्ता रहे। उन्होंने यातायात जागरूकता पर विस्तृत व्याख्यान प्रस्तुत किया। रावत ने सड़क दुर्घटना के विभिन्न पहलुओं की चर्चा करते हुए आंकड़ों के साथ बताया कि हमारी लापरवाही वास्तव में बेहद खतरनाक है। अतः हमें सावधानी, संयम व समझ से गाड़ी चलाना चाहिए। बस्तर विवि के रा.से.यो. कार्यक्रम समन्वयक डॉ.डीएल पटेल ने सत्र का अध्यक्षीय उद्बोधन देते हुए विद्यार्थियों को ईमानदारी व मेहनत से शिविर में सीखने व कार्य करने हेतु प्रेरित किया। साथ ही उन्होंने सायंकाल खेल सत्र में विभिन्न खेलों में शामिल होकर विद्यार्थियों को प्रोत्साहित किया। धन्यवाद ज्ञापन कार्यक्रम अधिकारी डॉ.मनोज राव व संचालन कार्यक्रम अधिकारी डॉ.जय सिंह ने किया। शिविर संचालन में ग्राम सरपंच, उपसरपंच, वरिष्ठ ग्रामीणजनों के साथ प्रो.विजय साहू, महादलनायक गुरुदास बिस्वास, तिलेश्वर साहू, महादलनायिका, शिल्पा साहू, आदुरी मिस्त्री, तनूजा यादव व सभी स्वयंसेवक छात्र-छात्राएं महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.