GLIBS

14 अक्टूबर से शहर और खेतों में देखे जाने वाले सुअरों को नपाध्यक्ष ने दिए मारने के निर्देश

14 अक्टूबर से शहर और खेतों में देखे जाने वाले सुअरों को नपाध्यक्ष ने दिए मारने के निर्देश

महासमुन्द। सूअरों के द्वारा किसानों के धान के फसल को नुकसान पहुंचाने की शिकायत कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक और नगर पालिका अध्यक्ष से की गई है। इसको लेकर पालिका अध्यक्ष प्रकाश चंद्राकर ने गुरुवार शाम किसान और सूअर पालकों की संयुक्त बैठक लेकर सूअर पालकों को सूअर पकड़ने कहा गया। वहीं पालिका अध्यक्ष ने 13 अक्टूबर के बाद शहर भर में या खेतों में आवारा घूमते सूअरों को  नगर पालिका विधि संहिता की धारा 253 के तहत मारने की कार्रवाई करने निर्देश दिए हैं। शहरी क्षेत्र के आसपास के अनेक किसानों के फसलों को आवारा घूमते सूअरों ने क्षति पहुंचाने के कारण किसानों ने नगर पालिका अध्यक्ष प्रकाश चंद्राकर को एक ज्ञापन सौंपा।
नगर पालिका अध्यक्ष की अध्यक्षता में किसान और सूअर पालकों की आज पालिका सभा कक्ष में संयुक्त बैठक ली। इसमें पालिका अध्यक्ष चंद्राकर ने सूअर पालकों को किसानों के फसलों को बचाने के लिए अपने पालतू सूअरों को पकड़कर सुरक्षित स्थान पर रखने को कहा है। इस दौरान सूअर पालकों ने 13 अक्टूबर तक सूअरों को पकड़ने की मोहलत मांगी गई। जिस पर पालिका अध्यक्ष ने तब तक कोई भी कार्रवाई नहीं करने का भरोसा दिलाया है। उन्होंने आगे कहा कि इसके बाद शहर सहित आसपास के खेतों की ओर सूअर घुमता पाया जाता है तो नगर पालिका एक्ट की धारा 253 के तहत मारने की कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि मारे गए किसी सूअरों के प्रतिकर का कोई भी दावा नहीं किया जा सकता है। इसलिए अपने सूअरों की सुरक्षा स्वयं करें। अन्यथा पालिका द्वारा इस पर एक्शन लिया जाएगा। इस दौरान सूअर पालकों ने एक लिखित सहमति पत्र भी अध्यक्ष को सौंपा है। इस अवसर पर सभापति संदीप घोष,पार्षद मुन्ना देवार, कुमारी बाई देवार, सीएमओ एके हालधार, पूर्व पार्षद राकेश चंद्राकर, बिसौहाराम चंद्राकर, नंनद कुमार चंद्राकर, दशरथ पटेल, पोषण चंद्राकर, राजेश चंद्राकर, शंकर साहू, सत्यनारायण शुक्ला, पंकज साहू सहित सूअर पालक उपस्थित थे।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.