GLIBS

छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसियशन ने कहा, वेतन वृद्धि रोकना,किसी पौधे के मुख्य शीर्ष को तोड़कर फेंक देना है

तरूण अम्बस्ट  | 29 May , 2020 06:15 PM
छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसियशन ने कहा, वेतन वृद्धि रोकना,किसी पौधे के मुख्य शीर्ष को तोड़कर फेंक देना है

अम्बिकापुर। सरगुजा के शिक्षकों को कई तरह के समस्याओं का सामना करना पड़ रहा हैं। ऊपर से अब वार्षिक वेतन वृद्धि रोकने का तुगलकी फरमान भी जारी हो गया है। छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसियशन के जिला अध्यक्ष मनोज वर्मा ने बताया कि सरगुजा के पंचायत शिक्षकों का कई महीनों से समयमान व पुनरक्षित वेतनमान का आदेश लंबित है,जिससे शिक्षकों को दस हजार से लेकर बीस हजार तक का मासिक नुकसान का सामना करना पड़ रहा है। जिला पंचायत के द्वारा बार बार अभिलेखों के परीक्षण के नाम से आदेश निकालने में देरी की जा रही है। मनोज वर्मा न बताया कि स्थानीय स्तर पर तमाम समस्याएं व्याप्त है अब ऊपर से शासन के द्वारा वार्षिक वेतन वृद्धि रोकने का फरमान जारी कर दिया है। छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन ने राज्य सरकार द्वारा वेतनवृद्धि रोके जाने के आदेश का कड़े शब्दों में विरोध किया है।

एसोसिएशन के प्रांतीय उपाध्यक्ष हरेंद्र सिंह,जिला अध्यक्ष मनोज वर्मा और अन्य जिला पदाधिकारी काजेश घोष, राजेश गुप्ता,लव गुप्ता,अरविंद सिंह,रामबिहारी गुप्ता,प्रदीप राय,अनिल तिग्गा,सुरित रजवाड़े, अजय तिवारी, रोहिताश शर्मा, प्रशांत चतुर्वेदी, कमलेश सिंह ने कहा है कि वार्षिक वेतन वृद्धि रोकने का आशय है कि किसी पौधे के मुख्य शीर्ष को ही तोड़कर फेंक देना,इससे वह पौधा अपना स्वाभाविक वृद्धि नहीं कर पाएगा, उसका विकास लम्बे समय तक अवरुद्ध हो जाएगा।टीचर्स एसोसिएशन द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि वेतनवृद्धि अवरुद्ध होने से एक कर्मचारी को अपने पूरे जीवन काल मे लाखों रुपये का नुकसान होगा, अतः कोरोना लड़ाई के लिए कर्मचारियों को राजस्व प्राप्ति या राज्य बजट में संग्रह का माध्यम नहीं बनाया जा सकता।गौरतलब है कि  डॉक्टर, शिक्षक, पुलिस, नर्स, मेडिकल टीम, कवरेन्टीन सेंटर में सेवारत शिक्षक-कर्मचारी, कोरोना मैनेजमेंट में लगे कर्मचारी, सफाई कर्मचारी आदि समस्त कोरोना वॉरियर्स को जो जान जोखिम में डालकर अपनी सेवा दे रहे हैं, प्रश्न यह है कि क्या उनका इंक्रीमेंट रोकना कोरोना महामारी की सेवा का उपहार है,? वेतनवृद्धि रोकना उनके करोना महामारी के विरुद्ध दृढ़ इच्छाशक्ति की लड़ाई व सेवा को कमजोर करना ही है।मनोज वर्मा ने बताया कि एसोसिएशन के सभी जिला व ब्लाक इकाई द्वारा शीघ्र मुख्यमंत्री के नाम पर जिला व ब्लॉक स्तर पर ज्ञापन देकर शासन द्वारा वेतनवृद्धि पर रोक लगाने के आदेश को वापस लेने मांग की जाएगी।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.