GLIBS

छत्तीसगढ़ अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन का 17वें दिन भी काली पट्टी धारण कर विरोध रहा जारी

तरूण अम्बस्ट  | 26 Jun , 2020 03:39 PM
छत्तीसगढ़ अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन का 17वें दिन भी काली पट्टी धारण कर विरोध रहा जारी

अम्बिकापुर। छत्तीसगढ़ अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन के प्रांतीय निकाय के आह्वान पर 3 सूत्रीय मांगों को लेकर आंदोलन आज 17वें दिन भी जारी रहा। कर्मचारी काली पट्टी धारण करते हुए शासकीय कार्यों का निर्वाह एवं सरकार के कर्मचारी विरोधी नीतियों को लेकर अपना असंतोष एवं आक्रोश व्यक्त कर रहे हैं। सरकार वित्तीय संकट एवं वैश्विक महामारी के काल में शासकीय कर्मचारियों एवं अधिकारियों के समस्त संगठनों से बिना संवाद किए बिना किसी सहमति के 1 दिन का वेतन जून माह में भी देने का आदेश पुन: जारी कर दिया है। जो प्रदेश सरकार के कार्य करने की स्वेक्षाचारिता एवं अलोकतांत्रिक कार्यप्रणाली का जीता जागता है। सरकार के इस आदेश का कर्मचारी जगत पूर्णत: विरोध कर रहा है इस विरोध के माहौल में भी कर्मचारी 1 दिन का वेतन कटौती कराना चाहते हैं उनसे लिखित सहमति के आधार पर वेतन कटौती की जाए।

छत्तीसगढ़ तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ संघ ने इस बात पर खेद व्यक्त किया है की वित्तीय संकट के दौर में छत्तीसगढ़ प्रदेश सरकार द्वारा निगम मंडलों में भारी नियुक्ति, प्रदेश सरकार के अधिकारी कर्मचारियों का थोक भाव में तबादला, जनप्रतिनिधियों एवं मंत्री स्तर के लोगों द्वारा बड़े स्तर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जाना, शैक्षणिक जगत के संकट के बीच अंग्रेजी मीडियम की पढ़ाई को भी इसी वर्ष से लागू कराया जाना, मॉडल स्कूल की परिकल्पना इस बात को रेखांकित करता है की सरकार वित्तीय संकट के नाम पर केवल मगरमच्छी आंसू ही बहा रही है। छत्तीसगढ़ तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ ने अपने प्रेस विज्ञप्ति में सरकार को एवं शासन को विनम्रता पूर्वक सलाह दी है कि अनेकों प्रकार की नकारात्मक आदेश जारी करने से बेहतर कि प्रदेश में इस वित्तीय वर्ष में सेवानिवृत्ति होने वाले अधिकारी कर्मचारियों की सेवा में 2 साल का विस्तार की जाए ताकि सेवानिवृत्ति के उपरांत दिए जाने वाले लाखों करोड़ों रुपए के तत्काल भुगतान से सरकार को राहत महसूस होगी।


छत्तीसगढ़ तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संगठन अपने सहयोगी संगठनों एवं छत्तीसगढ़ अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन के साथ मिलकर संयुक्त रुप से 1 जुलाई 2020 को काला दिवस के रूप में विरोध कार्यक्रम आयोजित करेगी तत्पश्चात यदि परिस्थितियां आंदोलन एवं विरोध के अनुकूल रही तो 3 जुलाई को राष्ट्रव्यापी विरोध स्वरूप श्रमिक विरोधी, किसान विरोधी, कर्मचारी विरोधी एवं जन विरोधी नीतियों को लेकर एक बड़ा विरोध का आयोजन किया जाएगा। संगठन ने अभी भी प्रदेश की सरकार से निवेदन किया है अपने कर्मचारी विरोधी आचरणों को त्याग कर बड़े दिल का परिचय दें ताकि बढ़ते असंतोष एवं अप्रिय स्थिति को टाला जा सके एवं अनावश्यक आंदोलन के रास्ते से कर्मचारियों को बचाया जा सके। इस आशय की विज्ञप्ति छत्तीसगढ़ तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ जिला शाखा अध्यक्ष अनंत सिन्हा ने जारी की है।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.