GLIBS

एम्स में टेलीमेडिसिन ओपीडी का शुभारंभ,कई रोगियों ने लॉक डाउन के बीच लिया चिकित्सा परामर्श

रविशंकर शर्मा  | 02 Apr , 2020 10:16 PM
एम्स में टेलीमेडिसिन ओपीडी का शुभारंभ,कई रोगियों ने लॉक डाउन के बीच लिया चिकित्सा परामर्श

रायपुर। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में गुरुवार से दस विभागों की टेलीमेडिसिन सेवाएं प्रारंभ हो गई। इस दौरान इन विभागों के नंबरों पर लगातार कॉल आते रहे,जिनके माध्यम से रोगी और उनके परिजन उपचार के बारे में जानकारी ले रहे थे। दो घंटे की दो पालियों में चिकित्सकों ने दस विभागों से संबंधित 92 कॉल का जवाब दिया। इसके साथ ही लॉकडाउन के बीच अध्यापन की चुनौती का हल ढूंढते हुए एम्स के चिकित्सा शिक्षकों ने अब ई-लर्निंग के माध्यम से छात्रों के साथ सीधा संवाद शुरू कर दिया है,जिसमें स्काइप और जूम के माध्यम से शिक्षक छात्रों की क्लास ले रहे हैं। टेलीमेडिसिन सेवाओं का प्रातः प्रथम पाली में निदेशक प्रो.(डॉ.) नितिन एम. नागरकर ने उद्घाटन किया। इस दौरान उन्होंने चिकित्सकों को इस पहल के लिए बधाई दी। उनका कहना था कि इस सेवा के माध्यम से लॉक डाउन के दौरान हजारों मरीजों को राहत दी जा सकेगी। इस अवसर पर डीन प्रो.एसपी धनेरिया, उप-निदेशक (प्रशासन) नीरेश शर्मा और डॉ.एकता खंडेलवाल भी उपस्थित थी।

दूसरी ओर लॉक डाउन के बीच एमबीबीएस छात्रों को अध्यापन में सहायता देने के उद्देश्य से एम्स मेडिकल कॉलेज की ओर से ई-क्लासेज की व्यवस्था की गई है। इसमें शिक्षक ब्रॉडबैंड के माध्यम से छात्रों के साथ जुड़कर उन्हें ऑनलाइन लेक्चर दे रहे हैं। ई-लर्निंग का शुभारंभ प्रो. नागरकर ने गुरुवार को किया। नई अध्यापन व्यवस्था लॉकडाउन तक जारी रहेगी। इस दौरान सभी शिक्षक अपने लेक्चर स्काइप या जूम के माध्यम से लेंगे। इस अवसर पर ईएनटी की एसोसिएट प्रोफेसर डॉ.रूपा मेहता ने लेक्चर लिया। प्रो.धनेरिया का कहना है कि इसके माध्यम से छात्रों को निरंतर अध्ययन में शिक्षकों का मार्गदर्शन मिलता रहेगा।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.