GLIBS

तनाव से मुक्ति का रामबाण का इलाज है धूप, नवजात और गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद

राहुल चौबे  | 24 Oct , 2020 10:32 AM
तनाव से मुक्ति का रामबाण का इलाज है धूप, नवजात और गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद

रायपुर/बैकंठपुर। सर्दी की गुनगुनी धूप से स्वास्थ लाभ होता है। धूप से विटामिन डी भरपूर मात्रा मिलता है, जिससे हड्डियों को मजबूती मिलती है। विटामिन डी केवल हड्डियों के लिए ही नहीं बल्कि पूरे शरीर के विकास के लिए भी आवश्यक है। तनाव की वजह से किसी को नींद की समस्या हो तो कुछ घंटे धूप में बैठने से लाभ होता है। धूप में मौजुद तत्वों से मन शांत होता है। शरीर के लिए किस समय की धूप अच्छी और लाभदायक होती है इसकी जानकारी देते हुए सीएमएचओ डां रामेश्वर शर्मा ने बताया, “तनाव से मुक्ति के लिए धूप रामबाण है। सर्दी के मौसम में प्रात 10 बजे से पहले धूप की, धूप का आनंद लेने के साथ साथ लाभ भी ले सकते हैं।

नवजात और गर्भवती महिलाओं के लिए सर्दी की धूप फायदेमंद होती है।“ उन्होंने बताया सूरज की रोशनी में विभिन्न प्रकार के संक्रमणों के असर को कम करने की क्षमता होती है। धूप से शरीर में श्वेत रक्त कणिकाओं का पर्याप्त निर्माण होता है, जो रोग पैदा करने वाले कारकों से लड़ने का काम भी करते हैं। मानसिक स्वास्थ के नोडल डां शुभाशीष करन ने बताया उचित मात्रा में धूप नहीं मिलने से शरीर में सेरोटोनिन नामक हार्मोन की मात्रा कम हो जाता है। इससे डिप्रेशन की आशंका बढ़ जाती है। पूरी धूप मिलने से सेरोटोनिन पूरी मात्रा में बनता है और मानसिक स्थिति ठीक रहती है। धूप से  सेरोटोनिन व एंडोर्फिन की उचित मात्रा बनती है और यह हैप्पीनेस हार्मोन पैदा करने के अलावा मनोवैज्ञानिक और भावनात्मक सेहत को चुस्त रखते हैं।"

और भी है फायदे
सर्दियों की धूप त्वचा के लिए फायदेमंद होती है। चेहरे से संबंधित कई समस्याएं केवल थोड़ी देर धूप में बैठने से ठीक हो जाती है। धूप केवल त्वचा के लिए ही नहीं बल्कि हृदय की भी सुरक्षा करती है। यह लीवर को भी सुरक्षा प्रदान करती है। नवजात शिशुओं को सुबह की धूप जरूर दिखानी चाहिए क्योंकि इससे उनमें विटामिन डी की कमी नहीं रहती और हड्डियां मजबूत होती हैं। गर्भवती के लिए धूप गर्भवती महिलाओं के गर्भ में पल रहे शिशु के लिए धूप दवा का काम करती है। सर्दी की धूप बच्चे के विकास में सहायक होती है। धूप में बैठने से कोलेस्ट्रॉल घटता है और बीपी से जुड़ी प्रॉब्लम खत्म हो जाती है।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.