GLIBS

बाल अधिकारों के लिए राजनीतिक दलों के छात्रसंघ और युवा विंग करेंगे वकालत

रविशंकर शर्मा  | 03 Dec , 2019 08:04 PM
बाल अधिकारों के लिए राजनीतिक दलों के छात्रसंघ और युवा विंग करेंगे वकालत

रायपुर। बाल अधिकारों पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन की 30वीं वर्षगांठ के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन हुआ। यूनिसेफ ने छत्तीसगढ़ की राष्ट्रीय सेवा योजना की साझेदारी में भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, यूथ कांग्रेस ऑफ इंडिया और भारतीय जनता युवा मोर्चा के सदस्यों के साथ यहां दो अलग-अलग आयोजनों में विचार-विमर्श का आयोजन किया। देश में पहली बार यूनिसेफ  ने छात्र संघों और राजनीतिक दलों के युवा विंग के सदस्यों के साथ अपने छात्र और युवाओं के कैडर के माध्यम से बाल अधिकारों को बढ़ावा देने की शुरुआत की है। यूनिसेफ ने सदस्यों को अपने संबंधित निर्वाचन क्षेत्रों में महिलाओं और बच्चों की भलाई के सम्बंध में और सजग होने के लिए प्रेरित किया। पूर्णचंद्र पाढ़ी छत्तीसगढ़ के युवा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष, विजय शर्मा अखिल भारतीय युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष, एनएसयूआई के भावेश शुक्ला और एबीवीपी के क्षेत्रीय संगठन सचिव अवधेशु ने राज्य में बच्चों के अधिकारों को बरकरार रखने में अपना समर्थन देने का संकल्प लिया। उन्होंने अपने कैडर को राज्य में बाल अधिकारों पर जागरुकता को बढ़ावा देने के लिए काम करने का आह्वान किया।

भविष्य के राजनीतिक नेतृत्व पोषित करने के लिए यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि बच्चों के अधिकार  सुरक्षित, संरक्षित हों और उन्हें माहौल मिले। यूनिसेफ और एनएसएस की इस पहल का उद्देश्य राज्यभर के बच्चों को चैंपियन बनाना है। जॉब जकरियाह, फील्ड ऑफिस के प्रमुख यूनिसेफ कार्यालय छत्तीसगढ़ ने कहा कि बाल अधिकारों की समझ रखने वाले एक नेता और बच्चों के अधिकारों के लिए एक सक्रिय अधिवक्ता की आवश्यकता हर गांव व शहर में है। युवा कांग्रेस और एनएसयूआई  के सदस्यों ने राज्य में बाल अधिकार संरक्षण के लिए अपनी प्रतिबद्धता जाहिर की है।  छत्तीसगढ़ के युवा कांग्रेस के राज्य अध्यक्ष पूर्णचंद्र पाढ़ी ने कहा कि निश्चित रूप से हम महिलाओं और बच्चों की भलाई के लिए काम करेंगे। छत्तीसगढ़ के युवा मोर्चा के विजय शर्मा ने कहा कि बाल अधिकारों के प्रभावी दूत होने के लिए राजनीतिक नेता से बेहतर कोई व्यक्ति नहीं है। उन्होंने कहा कि राजनीतिक नेता बच्चों के जीवन सहित समुदाय में सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं।




 

ताज़ा खबरें

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.