GLIBS

ग्रामीणों ने एनएमडीसी को कहा, 26 मांगों के माने जाने के बाद ही स्लरी पाइपलाइन सर्वे की देंगे अनुमति

राहुल चौबे  | 01 Nov , 2020 10:46 AM
ग्रामीणों ने एनएमडीसी को कहा, 26 मांगों के माने जाने के बाद ही स्लरी पाइपलाइन सर्वे की देंगे अनुमति

रायपुर/दंतेवाड़ा। जिले के बचेली एनएमडीसी स्लरी पाइपलाइन के सर्वे कार्य को प्रारंभ करने को लेकर 5 वार्ड 1,4,6,7,9, के लोग एवं जिला प्रशासन, एनएमडीसी, जनप्रतिनिधियों की बैठक की गई थी। इस बैठक में प्रभावित एवं आसपास के क्षेत्रों में रहने वाले ग्रामीणों का एनएमडीसी के उपस्थित अधिकारियों को विरोध का सामना करना पड़ा। उपस्थित एनएमडीसी के अधिकारी सीएसआर मद के अंतर्गत किए गए कार्यों का ब्यौरा देते हुए ग्रामीणों को समझाइश देते नजर आए। आदिवासी महासभा के गोविंद कुंजाम ने बताया कि बैठक में हमने साफ कर दिया है कि हमारी 26 बिंदुओं पर मांग है। हमारी मांगों को हमने जिला प्रशासन एवं एनएमडीसी के समक्ष रखा है। हमारी 26 मांगों को मानने के बाद ही हम स्लरी पाइपलाइन सर्वे के लिए अनुमति देंगे अन्यथा हमारी जमीनों में हम किसी भी सूरत में इनको पाइपलाइन बिछाने तो दूर सर्वे करने भी नहीं देंगे।  

बैठक में शामिल ग्रामीणों का कहना है कि एनएमडीसी ने स्थापना से लेकर आज तक आस-पास के जितने भी क्षेत्र है। उनके विकास को लेकर चाहे वो लाल पानी प्रभावितों के हितों को लेकर हो फिर चाहे एनएमडीसी के द्वारा गोद लिए गए गांव हो। रोजगार एवं विकास के नाम पर कोरा आश्वाशन ही दिया है। अब जब एनएमडीसी को अपना प्रोजेक्ट बनाना है तो पुन: एक बार ग्रामीणों को मुआवजा राशि का लालच देकर अपना उल्लू सीधा करने में लगी है। उपस्थित जनप्रतिनिधियों ने भी एनएमडीसी के ऊपर ग्रामीण क्षेत्रों में विकास कार्य को लेकर किए जा रहे दावों पर भी सवाल खड़े किए है। पालिका उपाध्यक्ष उस्मान खान ने भी ग्रामीणों का पक्ष लेते हए कहा कि स्थानीय ग्रामीणों के साथ हमेशा से ही अन्याय किया है। फिर चाहे बात रोजगार को लेकर हो या सीएसआर अंतर्गत विकास कार्यों को लेकर हो। हमेशा से ग्रामीण छले गए है, इनकी मांगें जायज है। उसे पूरा करना एनएमडीसी का दायित्व है। साथ ही सीएसआर की लिस्ट में बड़े बचेली का नाम ना होने पर भी उपाध्यक्ष ने सवाल खड़े किए। 

जिला प्रशासन से डिप्टी कलेक्टर अभिषेक अग्रवाल, एसडीएम प्रकाश कुमार भारद्वाज ने सरकारी नियम के तहत मुआवजा दिलाने एवं भू अर्जन के सम्बंध में आवश्यक जानकारी उपस्थित ग्रामीणों को दी एवं ग्रामीणों को समझाने का भरकस प्रयास किया, साथ ही ग्रामीणों की मांगों पर एनएमडीसी को विचार करने आपसी सहमति से इस योजना के क्रियान्वयन के लिए कोई रास्ता निकालने ग्रामीणों से भी अपील की साथ ही विकास कार्यों को लेकर भी समीक्षा किया।
उल्लेखनिय है कि एनएमडीसी स्लरी पाइपलाइन बचेली प्लांट से लेकर नगरनार तक बिछाने की योजना बनाई गई है जो विभिन्न वार्डों से गुजरते हुए नगरनार स्टील प्लांट होकर आंध्र के विशाखापटनम तक जाएगी। इसमें पानी के उच्च दबाव से लौह अयस्क चूर्ण भेजा जाएगा पहले इस तरह का प्रोजेक्ट एस्सार द्वारा चालू किया है जो कि काफी हद तक सफल रहा है।

बैठक में पालिका अध्यक्ष पूजा साव , उपाध्यक्ष उस्मान खान , तहसीलदार पीआर पात्रे , पालिका सीएमओ, सीएसआर प्रमुख सुनील उपाध्याय , स्लरी पाइपलाइन प्रोजेक्ट इंचार्ज अजित कुमार , पार्षद धनसिंह नाग , रीना दुर्गा , अप्पू कुंजाम , संजीव साव , सर्व आदिवासी समाज से गोविन्द कुंजाम , सुखराम राणा , सुदरू मंडावी , संजय मंडावी , मनोज कंजाम , सन्तोष तामो , मोहन नाग ( कोटवार बचेली )  हुंगा कर्मा , राजेन्द , बुधराम एवं ग्रामीण उपस्थित रहे।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.