GLIBS

 रविन्द्र चौबे ने राष्ट्रीय कृषि मेला के सफल आयोजन पर दी बधाई

हर्षित शर्मा  | 26 Feb , 2020 10:50 PM
 रविन्द्र चौबे ने राष्ट्रीय कृषि मेला के सफल आयोजन पर दी बधाई

रायपुर। कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने रायपुर जिले के तुलसी बाराडेरा में आयोजित त्रिदिवसीय राष्ट्रीय कृषि मेला के सफल आयोजन पर बधाई दी। इसके साथ ही उन्होने राज्य के कोने-कोने से उत्साह एवं उर्जा के साथ मेले में अपनी सहभागिता सुनिश्चित करने वाले किसानों को धन्यवाद दिया। उल्लेखनीय है कि 23 से 25 फरवरी तक तुलसी बाराडेरा में आयोजित राष्ट्रीय कृषि मेला में लगभग 55 हजार किसानों द्वारा सहभागिता दी गई। इसमें शासन के 11 विभाग, 5 उपक्रम तथा 93 निजी प्रतिष्ठानों द्वारा स्टॉल लगाए गए। इसके अलावा 54 कृषक संगठन एफपीओ तथा 10 महिला स्वसहायता समूहों द्वारा कृषि उत्पादों का प्रदर्शन किया गया।

राष्ट्रीय कृषि मेला में आधुनिक कृषि यंत्र वेजीटेबल ट्रांसप्लान्टर्स, गन्ना हार्वेस्टर, बूम स्प्रेअर, बेलर, का प्रत्यक्ष प्रदर्शन कृषकों के सम्मुख किया गया। ड्रोन की नवीनतम तकनीक के माध्यम से कीटनाशकों का छिडकाव, सेंसर बेस्ड आटोमेटिक इर्रागेशन सिस्टम, लो कॉस्ट सोलर कोल्ड स्टोरेज तथा सीप से मोती उत्पादन जैसे उन्नत तकनीक का जीवन्त प्रदर्शन भी किया गया। फूड प्रोसेसिंग के क्षेत्र में पनीर प्रोसेसिंग, शहद निर्माण, हर्बल गुलाल निर्माण एवं जैविक व्यंजन का प्रदर्शन किया गया।मेले में सुगंधित चांवल, जीराफूल, जवाफूल, ब्लैक राईस, मशरूम, रागी के कुकीज के विक्रय के साथ ही देवभोग के बहुत ही स्वादिष्ट पौष्टिक उत्पाद रबडी, लस्सी, गटपट, खीर का स्वाद भी कृषक बंधुओं के द्वारा लिया गया। उन्नत भैंस सांड करण एवं बादशाह को किसानों द्वारा देखा गया व सराहा गया। कड़कनाथ का भी कृषकोे द्वारा प्रदर्शन एवं क्रय किया गया।
 
इसके अतिरिक्त महिला स्व सहायता समूह द्वारा मेडिसनल एरोमेटिक साबुन, चंदन, अगरबत्ती, हनी शैम्पू, साड़ी, जैकेट, कुर्ता आदि उत्पादों का प्रदर्शन किया गया। साथ ही कृषकों को समन्वित कृषि के लिए जागृत एवं प्रेरित किया गया। कृषि मंत्री ने कहा कि कृषक मेले के आयोजन के माध्यम से कृषकों को न केवल कृषि से संबंधित नवीनतम तकनीकोें की जानकारी मिली साथ ही उन्नत उत्पादों के लिए मार्केटिंग प्लेटफार्म की उपलब्धता भी सुनिश्चित हुई। 

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.