GLIBS

रिसाली निगम वार्डों में रोका-छेका अभियान के तहत की गई पशुओं की धरपकड़

संध्या सिंह  | 30 Jun , 2020 09:57 AM
रिसाली निगम वार्डों में रोका-छेका अभियान के तहत की गई पशुओं की धरपकड़

दुर्ग। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के मंशानुरूप छत्तीसगढ़ की पुरानी परम्परा रोका-छेका को पुर्नजीवित करने के लिए नगरीय प्रशान विकास विभाग मंत्रालय नया रायपुर के आदेश तहत व डाॅ. सर्वेश्वर नरेन्द्र भूरे के निर्देशानुसार तथा अपर कलेक्टर व निगम आयुक्त प्रकाश कुमार सर्वे के निर्देश पर राजस्व विभाग व स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों द्वारा निगम के नोडल अधिकारी रमाकांत साहू के मार्ग दर्शन में रिसाली निगम के वाणिज्यिक क्षेत्रों डी.पी.एस. रोड़ कृष्णाटाकीज रोड, आजाद मार्केट रिसाली के सम्पूर्ण व्यवसायिक प्रतिष्ठान क्षेत्रों में खुले में घुम रहे पशुओं की धर पकड़ की गई। बता दें कि राज्य सरकार की महंती योजना रोका छेका संकल्प अभियान की शुरूआत 19 जून को रिसाली निगम क्षेत्रांतर्गत टंकी मरोदा कल्याणी मंदिर के पास स्थित गौठान पर दुर्ग कलेक्टर डाॅ. सर्वेश्वर नरेन्द्र भूरे की उपस्थिति में निगम प्रशासन द्वारा स्थानीय पशुपालकों से संकल्प पत्र भरवाकर उल्लेखित अभियान का आगाज किया गया था, जो कि 30 जून तक रोका-छेका संकल्प अभियान के लिए अभी तक निगम के सभी वार्डों में 530 पशुपालकों से संकल्प अभियान पत्र भराया जा चुका है।

इसके लिए निगम कर्मियों द्वारा पशुपालकों से मवेशियों को खुले में छोड़ दिये जाने से फसलों व सब्जियों की खुली चराई होने से जनधन का नुकसान व मवेशियों के सड़कों में विचरण करने से होने वाली दुर्घटनाओं के मद्देनजर पशुओं को खुले में न छोड़ने व उनकी व्यवस्थित चराई के उपाय करने की अपील की गई थी। बावजूद खुले में घुम रहे मवेशियों की रिसाली निगम द्वारा सख्त कार्यवाही करते हुए धरपकड़ की गई। अपर कलेक्टर व रिसाली निगम आयुक्त प्रकाश कुमार सर्वे ने रिसाली निगम क्षेत्रों के सभी पशुपालकों से अपील की है कि वे अपनी पशुओं को खुले में न छोड़ें व रिसाली निगम प्रशासन द्वारा की जा रही दण्डनीय कार्यवाही से बचे। कार्यवाही के दौरान रोका-छेका अभियान के नोडल अधिकारी, हरचरण सिंह अरोरा, रमेशर निषाद, ओंकार यादव, टेमन दिल्लीवार, छगन साहू, कुलवंत देशमुख, सतीश देवांगन भीखम यादव व स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी उपस्थित थे।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.