GLIBS

रायपुर रेल मंडल ने देशभर में बढ़ाया दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे का मान,डीआरएम ने केक काटकर जाहिर की खुशी

रविशंकर शर्मा  | 26 Oct , 2020 09:47 PM
रायपुर रेल मंडल ने देशभर में बढ़ाया दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे का मान,डीआरएम ने केक काटकर जाहिर की खुशी

रायपुर। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के रायपुर रेल मंडल ने माल लदान के क्षेत्र में उपलब्धि हासिल की है। रायपुर रेल मंडल ने अप्रैल-मई की कठिन परिस्थितियों में कम लोडिंग के बाद से अभिनव प्रयास कर नए ग्राहकों को रेल की ओर आकर्षित करने में सफलता हासिल की। सितंबर माह में पिछले वर्ष के मुकाबले 25 प्रतिशत से अधिक और अक्टूबर माह में अभी तक पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 35 प्रतिशत अधिक लदान हासिल करने में सफलता अर्जित की है। सोमवार को मंडल रेल प्रबंधक श्याम सुंदर गुप्ता ने अधिकारियों के साथ केक काटकर खुशी जाहिर की।
यह वृद्धि सीमेंट,क्लिंकर, डोलोमाइट, लौह अयस्क और नए स्टील ग्राहकों को जोड़कर प्राप्त की जा सकती है। रायपुर रेल मंडल के योगदान से दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे जोन में विपरीत परिस्थितियों में पिछले वर्ष के मुकाबले अधिक लदान स्तर हासिल करने में सफल रहा है। पूरे भारतीय रेलवे में दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे का लदान के क्षेत्र में सर्वोच्च स्थान रहा है। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे को वर्तमान वित्तीय वर्ष 2020-21 में 172.83 मिलियन टन माल ढुलाई का लक्ष्य दिया गया है। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे अपने समर्पित रेलकर्मियों के प्रयासों से काफी सफलता के साथ लगातार लक्ष्य प्राप्ति  की ओर अग्रसर है ।

डीआरएम ने की प्रशंसा, कारगर उपाय करने दी सलाह :  
डीआरएम गुप्ता ने वरिष्ठ मंडल परिचालन प्रबंधक डॉ. प्रकाश चंद्र त्रिपाठी की प्रशंसा की। साथ ही रेल राजस्व के क्षेत्र में और अग्रसर कारगर उपाय करने की सलाह दी। इस दौरान अपर मंडल रेल प्रबंधक डॉ. दर्शनीता बी. आहलूवालिया और अपर मंडल रेल प्रबंधक (ओपी) लोकेश विश्नोई सहित रायपुर रेल मंडल के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे। कोरोना जैसी विषम परिस्थिति के बावजूद भी दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे ने लदान के प्रति अपनी प्रतिबद्धता कायम रखते हुए  बेहतर कार्य  किया  आपदा को अवसर में  बदलते हुए न केवल रिकार्ड के मैंटेनेंस कार्य हुए बल्कि अधोसंरचना के लिए कार्य भी तीव्र गति से किया गया।

पिछले वित्तीय वर्ष की तुलना में लादान कहीं ज्यादा :
इस वित्तीय वर्ष -2020-21 के 1 अप्रैल से 25 अक्टूबर तक  दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे ने 92.62 मिलियन टन माल लदान कर चुका है। यह विगत वित्तीय वर्ष 2019-20 के 1 अप्रैल से 25 अक्टूबर तक  लदान में 92.48 मिलियन टन लदान से कहीं ज्यादा है। समय और परिस्थिति के मद्देनजर यह आंकड़ा बेहद महत्वपूर्ण और आशाजनक है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि पिछले वित्तीय वर्ष की तुलना में अपने लोडिंग परफॉर्मेंस को संदर्भित तिथि तक पार करने वाला यह समस्त जोनों में प्रथम रेलवे बन गया है। औसत दृष्टि से देखें तो पिछले वर्ष में 1 अप्रैल से 25 अक्टूबर तक  लदान का औसत 6564 वैगन प्रति दिन रहा।  जबकि वर्तमान वित्तीय वर्ष में यह औसत 6596 वैगन प्रति दिन है। महाप्रबंधक दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे ने तीनों रेल मंडलों के अपने सभी कर्मचारियों और अधिकारियों को इसके लिए शुभकामनाएं दी है। उन्होंने बेहतर कार्य के लिए  प्रोत्साहित किया है।

 

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.