GLIBS

एक साल के बेटे को गोद में नहीं लेते रायगढ़ एसपी संतोष सिंह, कोरोना से लड़ने वाले सच्चे अनुशासित सिपाही

राहुल चौबे  | 04 Apr , 2020 01:59 PM
एक साल के बेटे को गोद में नहीं लेते रायगढ़ एसपी संतोष सिंह, कोरोना से लड़ने वाले सच्चे अनुशासित सिपाही

रायगढ़। विश्वास तो नहीं होता है मगर यह सच है। एक ही घर में रहकर भला कोई बाप अपने जिगर के टुकड़े से दूर रह सकता है? 1 साल का बेटा जैसे ही पिता को वापस आते देखता है। दौड़ कर उससे लिपटने की कोशिश करता है, मगर अनुशासन की बेड़ियों में जकड़ा पिता अपने लाड़ले से खुद को दूर रखने में ही अपना और अपने परिवार का भला समझता है। ये ना केवल उनका अपने परिवार के प्रति भलाई का जज्बा है, बल्कि शहर राज्य और देश के प्रति भी उनका कर्तव्य भी है। आइसोलेशन के नियमों का पालन करने में कहीं कोई चूक नहीं कर रहे हैं वे। फिर वे कोई आम आदमी भी नहीं है। वे खास है। आईपीएस है और रायगढ़ जिले के कप्तान है। रायगढ़ जिले के एसपी संतोष सिंह की बात कर रहे हैं हम। उनके पास रायगढ़ जिले की कमान है और वे रायगढ़ जिले की कमान बखूबी संभाल रहे हैं। कोरोना के खिलाफ सोशल डिस्टेंसिंग का खुद बेमिसाल उदाहरण पेश कर रहे हैं। ऐसा कम ही देखने में आता है कि सेनापति खुद कोई काम करके अपनी सेना से उस काम को करने को कहें। कायदे से देखा जाए तो एसपी संतोष सिंह को आम आदमी से मिलने और उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग समझाने की जरूरत भी नहीं है।

उनके पास बहुत बड़ी फौज है जो इस काम में लगी हुई है लेकिन वे खुद सोशल डिस्टेंसिंग के लिए ना केवल लोगों को समझा रहे हैं और तैयार कर रहे हैं, बल्कि खुद भी उसका पालन करके सराहनीय प्रशंसनीय अनुकरणीय उदाहरण पेश कर रहे हैं। दो बेटे हैं संतोष सिंह के और छोटा तो मात्र 1 साल का ही है। दिनभर ड्यूटी के कारण घर से गायब रहने के बाद जब संतोष सिंह वापस घर लौटते हैं उनका छोटा बेटा दौड़ कर उनसे लिपटने के लिए मचल उठता है। वो बहुत कोशिश करता है मगर दिल में उमड़ते-घुमड़ते प्यार पर अनुशासन का पत्थर रखकर बाहर बने कमरे में चले जाते हैं संतोष सिंह। एक सप्ताह हो रहा हैं उन्होंने अपने दोनों बेटों को गोद में नहीं लिया है। ऐसा नहीं है कि उन्हें अपने बच्चों से प्यार नहीं है। अपने परिवार से प्यार नहीं है। लेकिन वे खुद यदि सोशल डिस्टेंसिंग का आइसोलेशन का पालन नहीं करते हैं तो उन्हें पता है कि फिर उनके उपदेश देने का लोगों पर कोई असर उतना नहीं पड़ पाएगा। रायगढ़ जिले में संतोष सिंह के इस शानदार अनुशासन के चर्चे आम है जो जानकर अब पूरे प्रदेश में फैल रहे हैं। और संभवत उदाहरण के लिए अनुशासन के मामले में एक बेहतरीन योद्धा के रूप में सामने आए हैं, जो आइसोलेशन और सेल्स सोशल डिस्टेंस इनके बेमिसाल रोल मॉडल साबित हो रहे है। सलाम संतोष सिंह जैसे कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे सच्चे सिपाहियों को।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.