GLIBS

आरबीआई ने बंद की दो हजार के नोटों की छपाई, जाने क्या है वजह...

ग्लिब्स टीम  | 21 Oct , 2019 01:00 PM
आरबीआई ने बंद की दो हजार के नोटों की छपाई, जाने क्या है वजह...

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद शुरू किए गए 2 हजार के नोट की छपाई अब रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने बंद कर दी है। राइट-टू-इन्फॉर्मेशन एक्ट के तहत पूछे गए सवाल के जवाब में रिजर्व बैंक ने बताया कि इस वित्त वर्ष में 2 हजार रुपये का एक भी नोट नहीं छापा गया। आरबीआई ने इसकी कोई वजह नहीं बताई है, लेकिन जानकारों का कहना है कि इस अधिक वैल्यू वाले नोट को बंद करने के पीछे ब्लैक मनी, भ्रष्टाचार और जाली करंसी बड़े कारण हैं। सरकार के 2016 में 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोटों पर रोक लगाने के फैसले के बाद आरबीआई ने पहले 2 हजार रुपये के नोट बैंकिंग सिस्टम में पहुंचाए थे। इसके बाद 500 रुपये के नए नोट लाए गए। सरकार की ओर से 2 हजार रुपये के नोट को बंद करने का फैसला करने की रिपोर्ट पहले भी आई थी, लेकिन केंद्र और आरबीआई ने तब इससे इनकार किया था। फाइनैंस मिनिस्ट्री में डिपार्टमेंट ऑफ इकनॉमिक अफेयर्स के तत्कालीन सेक्रटरी सुभाष चंद्र गर्ग ने इस वर्ष की शुरुआत में ट्वीट किया था, ‘नोटों की छपाई की योजना अनुमानित जरूरत के अनुसार बनाई गई है। हमारे पास सिस्टम में 2 हजार रुपये के पर्याप्त नोट हैं। सर्कुलेशन में वैल्यू के लिहाज से 35 पर्सेंट से अधिक नोट 2 हजार रुपये के हैं। 2 हजार रुपये के नोट की छपाई को लेकर हाल ही में कोई फैसला नहीं हुआ है।’

क्या है परेशानी?

अधिक वैल्यू वाले नोटों से ब्लैक मनी बढ़ जाती है और भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलता है। ब्लैक मनी रखने वाले अधिक वैल्यू के नोटों को अपने पास जमा कर लेते हैं। इसके साथ ही जाली करंसी की समस्या से निपटने के लिए भी यह कदम उठाया गया है। नैशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (एनआईए) ने हाल ही में बताया था कि पाकिस्तान से 2 हजार रुपये के जाली नोट बड़ी संख्या में भारतीय मार्केट में पहुंचाए जा रहे हैं। इन नोटों की पहचान करना भी आसान नहीं है। इंटेलिजेंस ब्यूरो और फाइनैंशल इंटेलिजेंस यूनिट ने भी सरकार को गैर कानूनी गतिविधियों के लिए 2 हजार रुपये के नोटों को जमा किए जाने का चलन बढ़ने की रिपोर्ट दी थी।

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के बहुत से छापों में जब्त किए गए नोटों में से अधिकतर 2 हजार रुपये के हैं। इससे संकेत मिलता है कि टैक्स की चोरी और वित्तीय अपराधों में शामिल लोग इन नोटों को अधिक पसंद करते हैं। नोटबंदी के बाद 2 हजार के नोट को शुरू करने की विपक्षी दलों ने निंदा की थी। उनका कहना था कि इससे लोगों के लिए ब्लैक मनी रखना आसान हो जाएगा। उस समय कोटक महिंद्रा बैंक के प्रमोटर उदय कोटक ने भी 1 हजार रुपये के नोट की जगह 2 हजार रुपये का नोट लाने के सरकार के कदम पर सवाल उठाया था।

क्या होगा असर?

2 हजार रुपये के नोटों की छपाई बंद करने से कुछ हद तक ब्लैक मनी की समस्या से निपटने में मदद मिलेगी। इससे ब्लैक मनी रखने वालों के लिए करंसी जमा करना मुश्किल हो जाएगा। सरकार के लिए एक बड़ी समस्या जाली करंसी की है और 2 हजार का नोट बंद होने से जाली करंसी का व्यापार करने वालों के लिए मुश्किल बढ़ जाएगी क्योंकि कम वैल्यू के जाली नोट बनाना और उन्हें चलाने में फायदा कम और पकड़े जाने का खतरा अधिक होता है। सरकार का जोर देश में डिजिटल ट्रांजैक्शंस बढ़ाने पर है। हालांकि, इसमें अभी तक बहुत अधिक सफलता नहीं मिली है। बड़ी वैल्यू के नोट उपलब्ध नहीं होने से लोग भुगतान के लिए डिजिटल माध्यम का उपयोग बढ़ा सकते हैं।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.