GLIBS

निजी अस्पताल संचालकों ने अनिश्चितकालीन हड़ताल के फैसले को वापस लिया

बीएन यादव  | 26 Aug , 2020 08:54 PM
निजी अस्पताल संचालकों ने अनिश्चितकालीन हड़ताल के फैसले को वापस लिया

कोरबा। निजी नर्सिंग होम, अस्पताल संचालकों ने 26 अगस्त से अनिश्चित कालीन तक अस्पतालों को बंद रखने के फैसले को वापस ले लिया है। जिले के सभी निजी अस्पतालों में भी अब रोज ओपीडी सेवाएं निरंतर जारी रहेगी। कोरबा के निजी नर्सिंग होम में डाॅक्टरों के साथ हुए दुव्र्यवहार के आरोपियों पर प्रशासन की कार्रवाई के बाद आईएमए के सदस्य और अन्य सभी निजी अस्पताल संचालको ने इस फैसले पर सहमति दी है। भारतीय चिकित्सा संघ कोरबा के अध्यक्ष डाॅ.राजेन्द्र साहू के नेतृत्व में डाॅक्टरों के दल ने एडीएम संजय अग्रवाल से मुलाकात की और आरोपियों पर कार्रवाई के लिए प्रशासन का आभार व्यक्त किया। डाॅक्टरों के दल ने मारपीट के अन्य आरोपियों पर भी सख्त कार्रवाई करने की मांग की। एडीएम संजय अग्रवाल ने कहा कि डाॅक्टरों पर होने वाले दुव्र्यवहार और मारपीट को किसी भी हालत में बर्दाश्त नहीं की जाएगी। डाॅक्टरों पर दुव्र्यवहार करने वालों पर प्रशासन द्वारा कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

इस दौरान सीएमएचओ डाॅ.बीबी बोडे और सीएसपी राहुल देव शर्मा भी मौजूद रहे। सीएसपी ने डाॅक्टरों के दल को बताया कि नवजीवन अस्पताल के संचालक डाॅ. रोहित बंछोर एवं उनकी धर्मपत्नी से मारपीट करने वाले दोनों आरोपियों की गिरफ्तारी की जा चुकी है। इस प्रकरण में आरोपियों के सहयोगियों की तलाश जारी है। तथा जल्द ही उनकी भी गिरफ्तारी की जाएगी। आईएमए के सदस्य डाॅक्टरों ने डाॅक्टर दम्पत्ति पर हमले के आरोपियों की गिरफ्तारी पर जिला प्रशासन का आभार जताया और 26 अगस्त से जारी रहने वाली हड़ताल को वापस लेने के फैसले से प्रशासन को अवगत कराया। सीएसपी ने बताया कि आरोपियों पर छत्तीसगढ़ चिकित्सा सेवा एवं सम्पत्ति की क्षति अधिनियम 2010 के प्रावधानों की धारा लगाई गई है। आरोपियों पर भारतीय दण्ड विधान 3 की धारा 249, 323 और 506 के तहत कार्रवाई की गई है।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.