GLIBS

अवसाद ग्रस्त व्यक्तियों को नवजीवन प्रदान करने नाटक के माध्यम से दी गई प्रस्तुती

अवसाद ग्रस्त व्यक्तियों को नवजीवन प्रदान करने नाटक के माध्यम से दी गई प्रस्तुती

महासमुन्द। विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस पर आयोजित जिला स्तरीय कार्यक्रम में मुख्य अतिथि सांसद चुन्नीलाल साहू ने जिला प्रशासन की पहल नवजीवन के अंतर्गत इस प्रकार के कार्यक्रम आयोजित करने पर साधुवाद देते हुए कहा कि जिले को आत्महत्या अवसाद मुक्त कराने में यह मील का पत्थर साबित होगा। इस अवसर पर जिला कलेक्टर सुनील कुमार जैन नवजीवन कार्यक्रम के अंतर्गत पूरे प्रदेश में सर्वाधिक आत्महत्या करने वाले जिले में से एक होने के कारण जिले को इस सामाजिक बुराई से मुक्त कराने के लिए समाज के सहयोग से नवजीवन कार्यक्रम का संचालन किया जा रहा है। नवजीवन कार्यक्रम के अंतर्गत प्रत्येक गांव में नवजीवन शाखा एवं नौजवान सखी का चयन का प्रशिक्षण दिया गया है। स्कूलों के समाजसेवी शिक्षकों को नवजीवन परत के रूप में प्रशिक्षित किया गया है। प्रत्येक गांवोंं में नवजीवन केंद्र बनाकर अवसाद ग्रस्त व्यक्तियों को तनाव मुक्त कराने के लिए गांव स्तर पर खेलकूद की सामग्री एवं अच्छे साहित्य उपलब्ध कराए जा रहे हैं। नवजीवन कार्यक्रम की विस्तृत जानकारी देते हुए कलेक्टर ने कहा कि आत्महत्या का सामाजिक अंकेक्षण भी किया जा रहा है,जिससे कि हम अध्ययन कर सकें कि हत्या के कारण क्या है? ताकि इसका पता लगाते हुए शासकीय योजनाओं को जोड़ते हुए लोगों को योजनाओं का लाभ दिलाते हुए आत्महत्या करने वालों को अवसाद मुक्त करते हुए रोका जा सके। कार्यक्रम नवजीवन गोष्ठी के अवसर पर रायपुर से आए मनोरोग विशेषज्ञ चिकित्सक डॉ. सोनिया परियल एवं डॉ. प्रीति सिंह ने अवसाद ग्रस्त व्यक्तियों की पहचान किस प्रकार से की जा सकती है और उन्हें चिकित्सक तक लाने के लिए लोगों को किस तरह प्रेरित किया जा सकता है बताया। इस दौरान दिशा नाट्य मंच द्वारा नवजीवन के संबंध में अवसाद ग्रस्त व्यक्तियों को नवजीवन प्रदान करने के संबंध में नाटक के माध्यम से प्रस्तुतीकरण दी गई।
इस अवसर पर शासकीय नर्सिंग कॉलेज की छात्राओं एवं माता कर्मा महाविद्यालय की छात्राओं ने कॉलेज के बच्चों को अवसाद से मुक्त करने का बेहतरीन प्रदर्शन किया। डॉक्टर आरके परदल ने राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के संबंध में जिला चिकित्सालय एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिला चिकित्सालय एवं सभी शासकीय संस्था संस्थाओं में निशुल्क चिकित्सा की सुविधा देने के संबंध में जानकारी दी। उन्होंने प्रत्येक अवसादग्रस्त व्यक्तियों को आध्यात्मिकता से जोड़ते हुए और साथ मुक्त करने में सभी से सहयोग करने की अपील की। कार्यक्रम के अंत में सांसद ने शपथ दिलाते हुए सभी व्यक्तियों को अपने परिवार, समाज, शहर तथा अपनी जिंदगी को जीने और तनावमुक्त रहते हुए आत्महत्या रोकने में अपनी मनोयोग से सहयोग करने की शपथ दिलाई। इस अवसर पर आभार प्रदर्शन आलोक पांडे अपर कलेक्टर ने किया। उक्त कार्यक्रम में मुख्य रूप से दाऊलाल चंद्राकर, नगरपालिका उपाध्यक्ष बंसल, राज्य सलाहकार सोनी जैन, अनुविभागीय अधिकारी सुनील चंद्रवंशी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर एसपी वारे, जिला कार्यक्रम प्रबंधक एवं जिला नोडल अधिकारी नवजीवन संदीप ताम्रकार, मानसिक स्वास्थ्य जिला नोडल अधिकारी डॉ. छत्रपाल चंद्राकर, जिला शिक्षा अधिकारी, मुख्य नगरपालिका अधिकारी रमेश जयसवाल सहित नगर के अनेक समय समाजसेवी, धर्मगुरु, स्कूल कॉलेज के प्राध्यापक, शिक्षक, विद्यार्थी एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.