GLIBS

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना सप्ताह : आगंनबाड़ी केंद्रों में भरे जाएंगे फार्म  

राहुल चौबे  | 02 Dec , 2019 10:38 PM
प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना सप्ताह : आगंनबाड़ी केंद्रों में भरे जाएंगे फार्म  

रायपुर। प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना गर्भवती एवं शिशुवती माताओं तथा इनके नन्हें शिशुओं के स्वास्थ्य एवं पोषण की स्थिति में सुधार करने एवं गर्भावस्था के दौरान काम न कर सकने की स्थिति में होने वाले आर्थिक नुकसान की आंशिक क्षतिपूर्ति के लिए केंद्र सरकार ने 1 जनवरी 2019 से प्रदेश के समस्त जिलों में लागू की है। योजना के प्रचार प्रसार के लिए 2  से 8 दिसंबर तक मातृ वंदना योजना सप्ताह चलाया जा रहा है। राज्य महिला एवं बाल विकास विभाग के प्रभारी संचालक डीएस मरावी ने बताया कि सभी जिलों में बाल विकास परियोजना अधिकारी को आंगनबाड़ी केंद्रों में रैली निकालकर योजना का प्रचार प्रसार करना है। लोगों को अभियान चलाकर आंगनबाड़ी केंद्रों में फार्म भरने के लिए प्रेरित करना है। इसके लिए सभी ग्राम व शहरी क्षेत्रों में वार्ड स्तर पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, मितानिन, स्वसहायता समूह की महिलाएं, शिक्षकों, ग्राम पंचायत सरपंच, सचिवों की बैठक लेकर योजना के तहत पात्र हितग्राहियों को शामिल करना है। महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी अशोक कुमार पांडेय ने बताया कि योजना के तहत प्रथम बार गर्भवती होने वाली महिलाओं को मातृ वंदना योजना के तहत तीन किश्तों में 5000 रुपये की प्रोत्साहन राशि मिलती है। आंगनबाड़ी केंद्रों में पंजीकृत गर्भवती महिलाओं के फार्म भरवाए जा रहे हैं। मितानिन ट्रेनर रत्ना ठाकुर ने बताया कि उनके क्षेत्र में दो वार्ड जवाहर नगर और तात्या पारा वार्ड में लगभग 22 मितानिन कार्यरत हैं जो 13 आंगनबाड़ी केंद्रों में जाकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को पात्र हितग्राहियों की मदद कर रहे हैं। ठाकुर ने बताया कि तीन किश्तों में 5000 हजार रुपये देने का प्रावधान इसलिए किया गया है, ताकि महिलाएं पौष्टिक भोजन कर सकें। साथ ही जच्चा बच्चा दोनों स्वस्थ रहें। प्रथम किस्त के रूप में 1000 रुपए की राशि गर्भावस्था के पंजीयन पर 150 दिन के भीतर खाते में पहुंचा दी जाती है। दूसरी किश्त में 2000 रुपए की राशि दी जाएगी। तीसरी किश्त में 2000 रुपये की राशि दी जाती है। 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.