GLIBS

पुलिस जवानों को अवसाद-तनाव से बचाने स्पंदन अभियान का आगाज,वरिष्ठ अधिकारी समस्याओं से होंगे रूबरू

रविशंकर शर्मा  | 02 Jun , 2020 11:09 PM
पुलिस जवानों को अवसाद-तनाव से बचाने स्पंदन अभियान का आगाज,वरिष्ठ अधिकारी समस्याओं से होंगे रूबरू

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर त्वरित अमल करते हुए राज्य पुलिस ने जवानों को अवसाद और तनाव से बचाने के लिए मंगलवार से स्पंदन अभियान की शुरुआत की है। पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने इस संबंध में वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों और मनोवैज्ञानिक की उपस्थिति में बैठक कर एक कार्य योजना तैयार की है। इस कार्य योजना को अभियान के तहत चलाने के लिए इसे स्पंदन नाम दिया गया है। यह योजना प्रदेश में तत्काल प्रभाव से लागू हो गई है। इस संबंध में विस्तृत दिशा-निर्देश सभी पुलिस अधीक्षकों और सेनानियों को जारी कर दिए गए है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पुलिस जवानों में बढ़ते अवसाद और तनाव को लेकर चिंता व्यक्त की थी। पुलिस महानिदेशक को निर्देश दिए थे कि इस संबंध में छत्तीसगढ़ पुलिस एक कार्य योजना बनाए। इससे जवानों में उत्पन्न हो रहे मानसिक अवसाद को दूर किया जा सके। इससे होने वाली हिंसक घटनाओं की पुनरावृत्ति को रोका जा सके। मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिए थे कि इसके साथ ही जवानों के लिए योगा क्लासेस और मनोवैज्ञानिक से काउंसिलिंग आदि भी आयोजित किए जाएं।  

पुलिस महानिदेशक अवस्थी ने बताया कि स्पंदन अभियान के तहत सभी पुलिस अधिकारी पुलिस लाइन, थानों और सशस्त्र बल की कंपनियों का भ्रमण कर जवानों के साथ समय व्यतीत करेंगे। उनकी समस्याओं से रूबरू होंगे। सभी सेनानियों को माह में एक बार प्रत्येक कंपनी में रात्रि विश्राम करेंगे। इसी तरह से पुलिस अधीक्षकों को भी सभी थानों और पुलिस लाइनों में भ्रमण कर जवानों की समस्याएं सुनने हेतु निर्देशित किया गया है। स्पंदन अभियान में पुलिस मुख्यालय रायपुर में पुलिस महानिदेशक जिला पुलिस बल और सशस्त्र बल के अधिकारियों व कर्मचारियों से मिलने के लिए माह में 2 बार स्पेशल इंटरेक्टिव प्रोग्राम चलाएंगे। पुलिस महानिदेशक स्वयं सभी से चर्चा करेंगे। इसके अलावा सभी दुर्गम इलाकों से लगे हुए कैम्पों में मनोविज्ञानी,म्यूजिक थेरेपी, योग शिक्षा, खेलकूद, पुस्तकालय इत्यादि की व्यवस्था तत्काल प्रभाव से की जाएगी। सभी रेंज के पुलिस महानिरीक्षकों को भी अपने रेंज में तत्काल स्पंदन अभियान शुरू करने को कहा गया है ताकि इससे जवानों को सहूलियत मिल सके। पुलिस महानिदेशक सहित सभी वरिष्ठ अधिकारी दूरस्थ इलाकों में दौरा कर वहां तैनात अधिकारियों एवं कर्मचारियों से चर्चा करेंगे। पुलिस मुख्यालय स्तर पर पुलिस कर्मियों की समस्याओं की मॉनिटरिंग करने के लिए एक स्पेशल एप तैयार किया जा रहा है। जो शीघ्र ही लॉन्च किया जाएगा। इसके माध्यम से पुलिसकर्मी और उनके परिजन अपनी समस्याएं संबंधित अधिकारियों तक पहुंचा सकेंगे। यह एप आगामी 15 दिवस में अस्तित्व में आ जाएगा। डीजीपी अवस्थी ने कहा है कि मुख्यमंत्री की मंशा के अनुरूप राज्य पुलिस स्पंदन अभियान चलाकर यह तय करेगी कि हमारा कोई भी पुलिसकर्मी अवसादग्रस्त न रहे और उनके परिवारों को स्वस्थ वातावरण मिल सके।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.