GLIBS

पढ़ई तुंहर दुआर: बच्चों के लाउडस्पीकर वाले चचा दे रहे शिक्षा के साथ कोविड से बचने का ज्ञान

अमित कुमार  | 24 Nov , 2020 09:26 PM
पढ़ई तुंहर दुआर: बच्चों के लाउडस्पीकर वाले चचा दे रहे शिक्षा के साथ कोविड से बचने का ज्ञान

कोरिया। कोरोना महामारी के बीच शिक्षा की लौ जलाए रखने के उद्देश्य से विकासखण्ड मनेन्द्रगढ़ के दूरस्थ ग्रामीण अंचल के संकुल कछौड़ के एक कर्तव्यनिष्ठ और होनहार सीएसी पंचम रोहिणी के द्वारा 9 ग्राम पंचायतों के कुल 22 केन्द्रों में पढ़ाई हमर पारा के अंतर्गत मोहल्ला क्लास का संचालन किया जा रहा है। यहां पंचम के द्वारा बच्चों को लाउडस्पीकर के माध्यम से पढ़ाया जा रहा है। कोविड महामारी के समय विद्यालय से दूर रहने के कारण अध्यापन कार्य में होने वाली समस्याओं को दूर करने के लिए एक सार्थक और अभिनव पहल करते हुए बच्चों को अध्यापन कार्य से जोड़ा गया है। इसके लिए अपने पंचायतों में घूम-घूम कर एसएमसी और पीएलसी के सक्रिय सदस्यों की बैठक आयोजित कर पंचम विद्यार्थियों से सहमति प्राप्त कर मोहल्ला क्लास संचालन के लिए प्रेरित करते हैं।
लाउड स्पीकर के जरिये क्लास लेने में यहां उन्हें गांव के पालक, जनप्रतिनिधि और पढ़े-लिखे नवयुवकों का भी सहयोग बढ़-चढकर प्राप्त हुआ। कोरोना महामारी से बचाव के लिए बच्चों को सोशल डिस्टेंसिंग, सैनिटाइजर का उपयोग, बार-बार हाथ धोने के साथ-साथ एक नए तरीके से अध्यापन कार्य से जोड़ा गया। इससे लोग अपने बच्चों को भी सोशल डिस्टेंसिग का महत्व बताते हुए नियमित रूप से मोहल्ला क्लास में अध्यापन कार्य के लिए भेजने लगे हैं। बच्चे भावनात्मक लगाव के कारण अब पंचम को चच्चा कहकर बुलाते हैं। पंचम रोहणी के द्वारा गांव में पंच, सरपंच,सचिव और शिक्षा सारथी के सहयोग से सफलतापूर्वक कक्षा का संचालन किया जा रहा है।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.