GLIBS

ओवर रेट, अवैध चखना सेंटर पर लगाम कसने में आबकारी विभाग नाकाम या फिर कुछ है मामला?

राहुल चौबे  | 07 Mar , 2021 06:09 PM
ओवर रेट, अवैध चखना सेंटर पर लगाम कसने में आबकारी विभाग नाकाम या फिर कुछ है मामला?

रायपुर। प्रदेश भर में शाम होते ही एक घंटे के लिए शराब दुकानों में ओवर रेट शुरू हो जाता है। शिकायतों के बाद भी अब तक अंकुश नहीं लग पाया है। मदिरा प्रेमियों की माने तो आबकारी विभाग इन पर कसाहट पाने में असफल साबित हो रहा है। बता दें कि विभाग ने शराब की दुकानों पर ओवर रेट को रोकने के लिए विभाग की ओर अनेक प्रयास किए गए लेकिन बावजूद इसके शराब दुकानों पर ओवर रेट रोक पाने में विभाग असफल साबित हुआ है। साथ ही कुछ दिनों पहले संतोषी नगर क्षेत्र में आबकारी टीम पर हमला करने वालों की बात करें तो अभी तक माजरा स्पष्ट नहीं हो पाया है कि आबकारी टीम की गाड़ियों पर हमला क्यों हुआ। आबकारी विभाग की गाड़ी पर हमला करना बहुत बड़ी घटना है। घटना कई ओर इशारा भी करते है कि आखिर क्या कारण था कि अवैध चखना सेंटर वालों ने आबकारी टीम की गाड़ियों पर हमला किया। प्रश्न यह भी खड़ा होता है कि चखना सेंटर किसकी मिलीभगत से चल रहे है।

जनता के सवाल
अवैध चखना सेंटर किसकी अनुमति से चल रहे है। साथ ही ओवर रेट की जानकारी विभाग के अधिकारियों को नहीं है या फिर सब कुछ जानबूझकर चलने दिया जा रहा है।

28 फरवरी को हुआ था आबकारी टीम पर हमला
रूटीन चेकिंग के दौरान अवैध चखना सेंटर हटाने गई आबकारी टीम पर हमला के दौरान सरकारी सूमो में जमकर पत्थरबाजी और तोड़फोड़ हुई। सूमो में आबकारी इंस्पेक्टर अजय पांडे, ड्राइवर समेत 3 सिपाही सवार थे। मामला टिकरापारा थाना क्षेत्र का है। आबकारी इंस्पेक्टर अजय पांडे ने बताया था कि ड्यूटी के दौरान रूटीन चेकिंग में निकले थे। इस दौरान संतोषी नगर शराब भट्टी के बाहर अवैध चखना बेचा जा रहा था। वहां पहुंचते ही कुछ अज्ञात लोगों ने गाड़ी पर हमला कर दिया और तोड़फोड़ कर दी। विभाग के अधिकारियों से खबर के संंबंध में प्रतिक्रिया के लिए संपर्क करने पर उनसे संपर्क नहीं हो पाई।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.