GLIBS

अधिकारी-कर्मचारी गांवों के विकास कार्यों को बढ़ावा दें: सुब्रत साहू  

ग्लिब्स टीम  | 03 Dec , 2019 09:51 PM
अधिकारी-कर्मचारी गांवों के विकास कार्यों को बढ़ावा दें: सुब्रत साहू  

रायपुर। छत्तीसगढ़ के पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के प्रमुख सचिव सुब्रत साहू ने मंगलवार को रायपुर जिले के आरंग विकासखण्ड के बनचरौदा गौठान का मुआयना किया और यहां संचालित गतिवधियों की जानकारी ली। उन्होंने अधिकारियों और कर्मचारियों को निर्देशित किया कि वे ‘‘नरवा, गरूवा, घुरवा एवं बाड़ी’’ के तहत् ऐसे कार्यों को बढ़ावा दे, जो गांव के विकास के साथ-साथ वहां के ग्रामीणों, महिलाओं और युवाओं को स्वरोजगार प्रदान करने में सहायक बनें। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में राज्य सरकार द्वारा ग्रामीण अर्थव्यवस्था के स्वावलंबन के लिए ‘नरवा, गरूवा, घुरवा एवं बाड़ी ’’ योजना का शुभारंभ किया गया।  इस ग्राम पंचायत में बने गौठान को देखने के लिए राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के साथ यहां आयें। मुख्य सचिव आरपीे मण्डल ने ना केवल इसे प्रदेश भर के लिये आदर्श गौठान बताया बल्कि अधिकारियों को निर्देशित भी किया कि वे समय निकालकर इसका अवलोकन करें।

 प्रमुख सचिव साहू ने आज भ्रमण के दौरान गौठान संचालन समिति के सदस्यों से विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की। सरपंच कृष्ण कुमार साहू ने बताया कि गांव के खाली पड़े 3.5 एकड़ भूमि में यहां गौठान बनाया गया है। यहां पहले से वृक्ष मौजूद थे जो यहां आने वाले पशुओं के लिये छाया देने का कार्य किया। गौठान बनने के बाद यहां सोलर चलित एक ट्यूबवेल लगाया गया। पशुओं को पानी पीने के लिय जगह-जगह कोटना बनाये गये। पशुओं के गोबर से खाद बनाने के लिये नाडेप टंकी और वर्मी कम्पोस्ट टंकी बनायी गई। पशु चारे के लिए एजोला टैंक बनाया गया। पशुओं को सुरक्षित कैम्पस देने के लिए चारो ओर फेंसिंग और सीपीटी एवं डब्ल्यूएटी का घेरा बनाया गया। इनके बीच हल्दी, फूल एवं फलदार वृक्ष लगाए गए हैं। गौठान के भीतर पशु उपचार के लिए ट्रेविश लगाया गया और चरवाहा घर की व्यवस्था भी की गयी।


 सुब्रत साहू ने वर्मी कम्पोस्ट खाद निर्माण की 12 इकाईयों का अवलोकन किया। गांव के मवेशियों को यहां प्रतिदिन सुबह चरवाहों द्वारा लाया जाता है और जो उनके डे-केयर सेंटर की तरह कार्य करता है। वर्तमान में गाय के गोबर और मूत्र का उपयोग वर्मी कम्पोस्ट और जैविक दवाई बनाने में होने लगा है। गोबर से दीये, गमला अन्य सामान बनाने वाली महिला स्व-सहायता समूहों की ख्याति इतनी अधिक बढ़ी है कि इस बार छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से लेकर देश की राजधानी दिल्ली तक उनके दीये हाथों-हाथ बिके और एडवांस बुकिंग की गयी। पहले ही दिवाली त्यौहार में तीन लाख रूपये के दीये महिलाओं ने बेचे। गोबर से यहां  गैस उत्पन्न करने और इनसे चाप कटर, मोबाईल चार्जर, धान कुटाई मशीन, थ्रेसर संचालित करने का कार्य किया जाता है।

 महिला समूहों द्वारा यहां बेल्वेट कोटेड पेंसिल एवं पेन बनाने, मुर्गीपालन करने, साबुन निर्माण, अगरबत्ती निर्माण करने एवं छत्तीसगढ़ी व्यंजनों के कैंटीन संचालन का कार्य भी किया जा रहा है। राष्ट्रीय बेम्बू मिशन द्वारा महिला समूहों द्वारा गांव में बहुतायत से उपलब्ध पत्तों से दोना बनाने और बांस शिल्प का कार्य भी किया जा रहा है।सुब्रत साहू ने यहां अजोला टैंक, राईस मिल, पल्वराईजर मशीन, पैलेट निर्माण मशीन, टपक सिंचाई के साथ निर्माणाधीन बायोगैस संयंत्र का भी अवलोकन किया। भेंट के समय महिलाओं ने बताया कि उन्हें अब अच्छी खासी आमदानी हो रही है।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.