GLIBS

पोषण माह: आँगनबाड़ी केंद्रों में लगाई सब्जियों और भाजियों की प्रदर्शनी,पौष्टिक तत्वों की दी गई जानकारी

अमित कुमार  | 14 Sep , 2020 08:52 PM
पोषण माह: आँगनबाड़ी केंद्रों में लगाई सब्जियों और भाजियों की प्रदर्शनी,पौष्टिक तत्वों की दी गई जानकारी

कोरिया। राष्ट्रीय पोषण माह के अन्तर्गत कोरिया जिले में महिलाओं, किशोरी बालिकाओं एवं बच्चों में सुपोषण के लिए जागरूकता लाने के लिए हर दिन विविध गतिविधियां आयोजित की जा रही हैं। इसके तहत कोरिया जिले के आँगनबाड़ी केंद्रों में आसानी से मिलने वाले स्थानीय सब्जियों और भाजियों की प्रदर्शनी लगाई गई और उनसे मिलने वाले पौष्टिक तत्वों के बारे में जानकारी दी गई। सब्जी भाजी की जानकारी के साथ ही महिलाओं को ईंधन के सदुपयोग के बारे में भी बताया गया। बता दें कि राष्ट्रीय पोषण माह का शुभारंभ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा 7 सितम्बर 2020 को राज्य स्तर पर डिजिटल रूप से किया गया है।

कुपोषण को दूर करने ली शपथ

पोषण माह शुभांरभ के अवसर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा कुपोषण को कम करने की शपथ ली गई। कुपोषण स्तर में व्यापक कमी लाने के लिए राज्य शासन द्वारा 10 सितंबर को आगंनबाड़ी केन्द्र व हितग्राहियों के घर आंगन में पोषण वाटिका निर्माण करने के लिए नियत किया गया था। इसके तहत कोरिया जिले में प्रत्येक विकासखण्ड में दो या तीन स्थानों का चयन कर आगंनबाड़ी कार्यकर्ताओं व हितग्राहियों द्वारा मुनगा, पपीता, तथा सब्जी के पौधे लगाकर पोषण वाटिका का निर्माण किया गया। साथ ही पेंटिंग, स्लोगन आदि के माध्यम से हितग्राहियों को जागरूक किया जा रहा है। आगंनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा महिलाओं एवं बच्चों को कोरोना काल में स्वच्छता का विशेष महत्व बताया जा रहा है। पालकों को एनीमिया एवं डायरिया से सुरक्षा संबंधी जानकारी के साथ ही पौष्टिक भोजन एवं स्वच्छता के लिए जागरूक किया जा रहा है। कोविड-19 के संबंध में जारी एडवाएजरी का पालन स्वरूप उन्हें बार-बार हाथ धोने एवं मास्क पहनने की सलाह दी गई और अपने घर-परिवार में स्वच्छता बनाये रखने तथा कोरोना संक्रमण से बचने शासन द्वारा जारी नियमों का पालन करने की अपील भी की गई है।   उल्लेखनीय है कि सितंबर माह को राष्ट्रीय पोषण माह में रूप में मनाया जा रहा है, जिसमें महिलाओं और किशोरी बालिकाओं को स्वच्छता, स्वास्थ्य और पोषण से संबंधित जानकारियां दी जा रही है। इसके साथ ही बच्चों का टीकाकरण, पोषण वाटिका लगाना जैसे अनेकों महत्वपूर्ण बिंदुओं पर चर्चा की जा रही हैं।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.