GLIBS

किसी को अंदाजा तक नहीं था कि टीशर्ट-लोअर पहना शख्स डीजीपी होगा 

किशन लाल  | 20 Jun , 2019 04:47 PM
किसी को अंदाजा तक नहीं था कि टीशर्ट-लोअर पहना शख्स डीजीपी होगा 

 

भागलपुर। बिहार में एक ओर अपराधी बेखौफ हैं तो वहीं पुलिसकर्मी अपनी ड्यूटी से नदारद पाए जा रहे हैं। इन्हीं शिकायतों के मद्देनजर बिहार के पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडे ऐसे ही थानों का औचक निरीक्षण कर रहे हैं। इसी क्रम में गुरुवार को डीजीपी ने भागलपुर में ड्यूटी में गड़बड़ी करने के आरोप में बड़ी कार्रवाई करते हुए पूरे थाने को निलंबित कर दिया। बताया जा रहा है कि गुरुवार को डीजीपी पांडे जब थाना का निरीक्षण करने पहुंचे तो उन्हें भारी गड़बड़ी मिली। अधिकतर पुलिसकर्मी ड्यूटी के गायब थे और फाइलों में भी अनियमितताएं मिलीं। इसी आधार पर डीजीपी ने सख्त एक्शन लेते हुए थाना अध्यक्ष प्रमोद शाह समेत सभी पुलिसकर्मियों को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया। बता दें कि किसी को भनक न लग सके इसलिए डीजीपी ने ये सारी कार्रवाई सिविल ड्रेस में की।

बताया जा रहा है कि नौगछिया स्टेशन पर उतरने के बाद टी शर्ट और पायजामे पहने डीजीपी पैदल ही सबसे पहले नौगछिया के टाउन थाना पहुंचे, फिर महिला थाना और एससी-एसटी थाना का उन्होंने निरीक्षण किया। इन तीनों ही थाने में स्टेशन डायरी पेंडिंग पाई गई। इसी दौरान जब नौगछिया की एसपी को डीजीपी के आने की जानकारी मिली तो वो भी मौके पर पहुंच गईं। वहां से डीजीपी और एसपी रंगरा थाना गए तो यहां थानाध्यक्ष समेत सभी पुलिसकर्मी ड्यूटी से गायब थे। तब डीजीपी ने एक्शन लेते हुए सस्पेंशन की कार्रवाई की। इसके बाद नौगछिया एसपी और पुलिस जिला के अधिकारियों के साथ डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने बैठक की। इस दौरान डीआईजी विकास वैभव भी उनके साथ मौजूद थे। मीटिंग के बाद डीजीपी ने भागलपुर में एसएसपी कार्यालय में कई मामलों का रिव्यू किया और पुलिस की कार्यशैली में सुधार लाने के आवश्यक निर्देश दिए।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.