GLIBS

पत्रकारिता विश्वविद्यालय पर एनएसयूआई ने राजकीय शोक के उल्लंघन का लगाया आरोप, कार्रवाई की मांग

हर्षित शर्मा  | 01 Jun , 2020 08:21 PM
पत्रकारिता विश्वविद्यालय पर एनएसयूआई ने राजकीय शोक के उल्लंघन का लगाया आरोप, कार्रवाई की मांग

रायपुर। कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए देश के सभी शिक्षण संस्थानों को बंद रखने का आदेश सरकार की ओर से दिया गया है। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के 29 मई को निधन के बाद प्रदेश में 3 दिन दिवसीय राजकीय शोक भी घोषित था। इस बीच रायपुर के कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय में एक वेब संगोष्ठी के लिए लोगों के एकत्र होने का आरोप है। यह आरोप एनएसयूआई के प्रदेश सचिव परमीत सिंह बग्गा ने लगाया है। परमीत सिंह बग्गा ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के निधन का 29 मई को निधन होने के बाद प्रदेश सरकार ने 3 दिन का राजकीय शोक घोषित किया था। इसके तहत राज्य में तीन दिनों तक किसी भी शासकीय कार्यक्रम पर रोक थी। परमीत ने आरोप लगाया कि कोरोना संक्रमण के खतरे की वजह से केन्द्र और राज्य सरकार ने सभी शिक्षण संस्थान बंद रखे हैं। ऐसे में कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय खुलवाकर एक कमरे में 5 से 7 लोगों ने बैठकर एक संगोष्ठी का आयोजन किया,जो कि बेहद निराशाजनक है। यह पूरा आयोजन राज्य सरकार की ओर से जारी आदेश और कोविड 19 के लिए जारी गाइडलाइन के विरूद्ध है। परमीत बग्गा ने मामले में कार्यवाही की मांग की है।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.