GLIBS

व्याख्याताओं की नियुक्ति करने के लिए अपर संचालक को सौंपा ज्ञापन

ग्लिब्स टीम  | 18 Feb , 2021 03:47 PM
व्याख्याताओं की नियुक्ति करने के लिए अपर संचालक को सौंपा ज्ञापन

अंबिकापुर। आजाद सेवा संघ सरगुजा के जिलाध्यक्ष रचित मिश्रा के नेतृत्व में  कार्यकर्ताओं ने अपर संचालक डॉ एसके त्रिपाठी को ज्ञापन सौंपा है। ज्ञापन में कहा गया कि कई ऐसे महाविद्यालय हैं जहां बहुत से विषयों के शिक्षक नहीं है। इसके कारण छात्रों को अध्ययन में परेशानी होती हैं। ऐसे में उस महाविद्यालयों में अतिथि व्याख्याताओं की नियुक्ति किया जाए। रचित मिश्रा ने बताया कि कोविड—19 और कॉलेज बंद होने की वजह पिछले 11 महीनों से बेरोजगार बैठे महाविद्यालयीन अतिथि व्याख्याताओं की नियुक्ति नहीं हुई, जिससे अतिथि व्याख्याताओं में गहरी निराशा व्याप्त है। पहले ऑनलाइन क्लास के लिए अतिथि व्याख्याताओं की नियुक्ति नहीं की गई और वहीं अब ग्राउंड लेवल पर कॉलेज खोला गया तब भी अतिथि व्याख्याताओं की नियुक्ति आदेश जारी नहीं किया गया है।

 ज्ञात हो कि पिछले 10-12 वर्षों से सहायक प्राध्यापकों के रिक्त पदों पर अंतिथि व्याख्याताओं से सेवा ली जाती रही है। लेकिन वहीं 10-12 वर्षों से सेवा दे रहे व्याख्याताओं को शिक्षा विभाग 11 महीनों से बेरोजगार कर दिया है। व्याख्याताओं को भरोसा था कि कॉलेज खुलने पर नियुक्ति मिलेगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। एक बार फिर अतिथि व्याख्याताओं को निराशा हाथ लगी है। सिवाय यह है कि आखिर कहां जाये प्रदेश के 2500 से अधिक अतिथि व्याख्याता। विद्यार्थियों को पढ़ाने वाले 2500 अतिथि व्याख्याता को कार्य से निकाल दिया है। आखिर कार कैसे पढ़ाई को मेनटेन कर रही उच्च शिक्षा विभाग। ऑनलाइन शिक्षा पूरी तरफ ठप है। उसके बावजूद भी उच्च शिक्षा विभाग ऑनलाइन शिक्षा पर इतनी जोर क्यों दे रही कॉलेज खुलने पर अतिथि व्याख्याताओं की ‌नियुक्ति पर रोक क्यों लगी हुई है। आजाद सेवा संघ के अपर संचालक जी माध्यम से उच्च शिक्षा विभाग से मांग करते हुए कहा कि अतिथि व्याख्याताओं की जल्द से जल्द नियुक्ति किया जाए जिससे छात्रों की समस्या और बेरोजगार अतिथि व्याख्याताओं की परेशानियां भी खत्म हो सके। इस दौरान रणवीर सिंह, हर्ष गुप्ता, अतुल गुप्ता, प्रतीक गुप्ता, सोहेब अली, आशुतोष यादव आदि उपस्थित थे।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.