GLIBS

थाना प्रभारी, एएसआई, एसआई को बर्खास्त करने सौंपा ज्ञापन

राहुल चौबे  | 24 Oct , 2020 11:14 AM
थाना प्रभारी, एएसआई, एसआई को बर्खास्त करने सौंपा ज्ञापन

रायपुर/कोंड़ागांव। जिले के बडेराजपुर सर्व आदिवासी समाज ने विश्रामपुरी थाना प्रभारी भापेंद्र साहू, एएसआई शोरी एवं एसआई पटेल के द्वारा कार्यवाही नहीं करने के एवज पर 1 लाख रुपए लेने का आरोप लगाते हुए। बडेराजपुर तहसीलदार के माध्यम से कलेक्टर व पुलिस अधीक्षक के नाम ज्ञापन सौंप कर विश्रामपुरी थाना प्रभारी, एसआई और एएसआई पर एफआईआर करने व बर्खास्त करने की मांग की है। बड़ेराजपुर सर्व आदिवासी समाज के द्वारा तहसीलदार एचआर नायक के माध्यम से कलेक्टर पुष्पेंद्र मीणा व एसपी सिद्धार्थ तिवारी के नाम सौंपे गए ज्ञापन में बताया है कि विश्रामपुरी थाना के एएसआई शोरी एवं एसआई पटेल के द्वारा 2 अक्टूबर को बिना किसी पुर्व सूचना के रात्रि 7 बजे बडेराजपुर ब्लॉक अंतर्गत ग्राम मछली निवासी सेवा निवृत्त शिक्षक लच्छुराम नाग के घर में घुसकर जातिगत गालियां देते हुए मारपीट किया और गाड़ी में बिठाकर विश्रामपुरी थाना लाया गया। थाने से मैदान ले जाकर विश्रामपुरी थाना प्रभारी भूपेंद्र साहू के द्वारा सेवानिवृत्त शिक्षक लच्छूराम से कार्यवाही नहीं करने के एवज पर कि 1 घंटे के अंदर 1 लाख रुपए लाकर दो अन्यथा जेल भेज दिया जाएगा। इससे घबराकर लच्छू राम ने पूर्व सरपंच सखाराम व अपने पुत्र के माध्यम से 1 लाख रुपए थाना प्रभारी को देने की बात कही है।

उक्त घटना की जानकारी मिलते ही बड़ेराजपुर सर्व आदिवासी समाज ने मामले को संज्ञान में लिया तथा बडेराजपुर तहसीलदार एच आर नायक के माध्यम से कलेक्टर पुष्पेंद्र कुमार मीणा व एसपी सिद्धार्थ तिवारी के नाम ज्ञापन सौंपते हुए विश्रामपुरी थाना प्रभारी भापेंद्र साहू, एएसआई शोरी एवं एसआई पटेल से 1 लाख रुपए हर्जाना सहित पीड़ित व्यक्ति को समाज के समक्ष वापस कर दोषियों के विरुद्ध तत्काल बर्खास्तगी की कार्रवाई कर आदिवासी प्रताड़ना अनुसूचित जनजाति अत्याचार अधिनियम के तहत कार्रवाई करने की मांग की है, तथा 48 घण्टे के भीतर कार्रवाई नहीं होने पर सर्व आदिवासी समाज एवं स्थानीय समुदाय द्वारा चक्का जाम कर धरना प्रदर्शन एवं विरोध करने की चेतावनी भी दी गई है। इस विषय पुलिस अधीक्षक सिद्धर्थ तिवारी ने बताया कि एसडीओपी के द्वारा मामले की जांच की जा रही है। फिलहाल दोनों पक्षों से पूछताछ की जा रही है, जिसमें प्रार्थी के अनुसार कथन लिया है। यदि इस मामले में कोई भी पुलिस कर्मी संलिप्त पाया जाता उसके ऊपर दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.