GLIBS

कवर्धा कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने शहर के कंटेनमेंट जोन का जायजा लिया  

यामिनी दुबे  | 20 Sep , 2020 02:31 PM
कवर्धा कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने शहर के कंटेनमेंट जोन का जायजा लिया  


रायपुर/कवर्धा। कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने कवर्धा शहर के कंटेनमेंट जोन का जायजा लिया। कलेक्टर शर्मा ने कहा कि कोविड-19 कोरोना वायरस के रोकथाम और नियंत्रण के लिए राज्य शासन के निर्देश पर जिला प्रशासन की ओर से अनेक प्रयास किए जा रहे है। जिले में जिस तेज गति से कोरोना के संक्रमण का प्रभाव देने के मिला रहा है वह बहुत ही चिंतनीय है, पर  इसके संक्रमण को रोकने और रोकथाम के लिए शहर को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। कोरोना के संक्रमण के रोकने के लिए शहर के सभी छोटे-व्यापारी वर्ग का जिला प्रशासन का सहयोग मिल रहा है। यह बहुत ही अच्छी बात है। आज शहर के सभी छोटे-बड़े व्यापारी अपने घाटे को सहन करते हुए कोरोना वायरस के संक्रमण को हराने में शासन-प्रशासन के साथ खड़े है। लेकिन ठीक इसके विपरित शहर के आमजनों का उतना अपेक्षित सहयोग नहीं मिल रहा रहा है, जितना की इस संक्रमण के चैन को तोड़ने या रोकने के लिए आवश्यक है। महज एक सप्ताह आमजन अनावश्यक घर से बाहर नहीं निकले में, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने और अपने घर के सामने, चैक-चैराहों में समुह के रूप में नहीं बैठने के लिए जिला प्रशासन का सहयोग कर देते है तो कोरोना के संक्रमण को रोकने में सफल हो सकते है।

कलेक्टर शर्मा ने बताया कि हम लगातार सभी वार्डों और गांव में मुनादी अथवा लाडस्पीकर के माध्यम से संदेश पहंचा रहे है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए शहर कंटेनमेंट जोन घोषित किए गए है। इसलिए अनावश्यक घर से बाहर ना निकले और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। हेंड सेनेटाईजर का उपयोग करें और साबुन से हाथों को अच्छी तरह से समय-समय पर साफ करते रहे। कलेक्टर शर्मा ने जिले अथवा शहर वासियों से अपील करते हुए कहा कि शासन-प्रशासन कोरोना के संक्रमण और उनके रोकथाम के लिए लिए सभी आवश्यक उपाय किए जा रहे है, लेकिन यह शासन-प्रशासन का प्रयास और उपाय तभी सफल होगा, जब शहर के आमजन इस उपाय का अपनाएंगे। 

कंटेनमेंट आपके और आपके परिवार की सुरक्षा के लिए, पालन अवश्यक करें :-
कलेक्टर शर्मा ने बताया कि कवर्धा शहर में जिस तेज गति से कोरोना के संक्रमण के प्रकरण सामने आ रहे है। इससे यह तथ्य भी सामने आ रहे है, संक्रमण का प्रभाव उस क्षेत्र अथवा वार्ड में ज्यादा मिल रहे है, जहां पहले भी मिल चुकें है। इससे साफ जाहिर है कि उन वार्डों के निवासी कंटेनमेंट जोन क्षेत्र के निर्देशों का पालन नहीं किया जा रहा है। उन्होने बताया कि कंटेनमेंट जोन क्षेत्र घोषित करने का उद्देश्य यह है कि हम कोरोना के संक्रमण पर काबू पा सके और उन वार्डों के अन्य परिवारों को पुर्णतः सुरक्षित रख सके। 

कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए इन बातों का रखे ख्याल :-
कलेक्टर शर्मा ने अपील करते हुए कहा कि सर्दी, खांसी, बुखार, सांस लेने में कठिनाई, स्वाद और सूंघने की क्षमता का अभाव कोरोना वायरस का प्रमुख लक्षण है। समय रहते इस कोरोना के संक्रमण को रोका जा सकता है। सर्दी, खांसी, बुखार, सांस लेने में कठिनाई, स्वाद और सूंघने की क्षमता का अभाव जैसे लक्षण दिखाई दे रहे तो तत्काल राज्य शासन के टोल फ्री नम्बर 104 और जिला स्वास्थ्य विभाग के दूरभाष नम्बर 07741232078 पर  फोन लगा कर निःशुल्क कोरोना जांच कराए। समय रहते कोरोना वायरस को चिन्हांकित कर पाने पर इस वायरस संक्रमण को रोका जा सकता है और संबंधित व्यक्तियों को आसानी से बचाया जा सकता है। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना चाहिए। कंटेनमेंट जोन क्षेत्र में प्रवेश अथवा बाहर निकलने से बचना चाहिए। अगर बहुत ही जरूरी का है तभी घर से बाहर निकले। घर से बाहर जाते समय सावधानी बरते और भींड-भाड़ जगहों में ना जाएं। हमेशा मास्क और हैण्डसेनेटाइजर का उपयोग करें।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.