GLIBS

कैट ने पैकेज को सराहा,अमर परवानी ने कहा-योजना को राज्य सरकारें भी अपनाए तो बाजारों में आएगा और अधिक धन

रविशंकर शर्मा  | 13 Oct , 2020 05:30 PM
कैट ने पैकेज को सराहा,अमर परवानी ने कहा-योजना को राज्य सरकारें भी अपनाए तो बाजारों में आएगा और अधिक धन

रायपुर। कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के पदाधिकारियों ने मंगलवार को केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से सरकारी कर्मचारियों को दिए पैकेज की सराहना की है। कैट के प्रदेश अध्यक्ष अमर परवानी, कार्यकारी अध्यक्ष मंगेलाल मालू, विक्रम सिंहदेव, महामंत्री जितेंद्र दोषी, कार्यकारी महामंत्री परमानंद जैन, कोषाध्यक्ष अजय अग्रवाल व प्रवक्ता राजकुमार राठी ने संयुक्त बयान जारी किया है। उन्होंने कहा है कि इस तरह के प्रोत्साहन पैकेज से आगामी दिवाली के त्यौहारी मौसम में घरेलू मांगों को बढ़ावा मिलने की बड़ी संभावना है। वर्तमान समय में जब देश भर का व्यापार वित्तीय समस्याओं में उलझा हुआ है, ऐसे में यह कदम व्यापार में धन के चक्र में वृद्धि लाएगा। कैट के पदाधिकारियों ने कहा है कि प्रोत्साहन पैकेज देश को इस साल हिन्दुस्तानी दिवाली के रूप में मनाने के लिए बड़ा योगदान देगा। उम्मीद है कि पैकेज से विशेष तौर पर घरेलू उपकरणों, बिजली और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों, रसोई के उपकरणों, एफएमसीजी उत्पादों, उपभोक्ता  वस्तुओं, कपड़ा और रेडीमेड कपड़ों, मोबाइल, जूते और उपहार वस्तुओं का व्यापार बढ़ेगा।

कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व प्रदेश अध्यक्ष अमर पारवानी ने कहा है कि त्यौहार के मौके पर सरकारी कर्मचारियों के लिए एलटीसी लाभों का नकद रूपांतरण,सरकारी कर्मचारियों को वर्तमान त्यौहार सीजन से लेकर आगामी 31 मार्च 2021 तक सरकार की ओर से दिए गए फेस्टिवल एडवांस को व्यय करने की घोषणा सरकारी कर्मचारियों की क्रय शक्ति को अधिक मजबूत करेगी। इससे यह पैसा बाजार में आएगा और व्यापार बढ़ेगा। यदि राज्य सरकारें भी केंद्र सरकार की इस योजना को अपनाती है तो और अधिक पैसा बाजार में मांग को अधिक मजबूत करेगा। लॉक डाउन खुलने के बाद से बाजारों में बहुत कम फुटफॉल के कारण वाणिज्यिक बाजार काफी वित्तीय तनाव में हैं। इसके परिणामस्वरूप व्यापार की बिक्री में तेजी से गिरावट आई है। ऐसे समय में केंद्र सरकार का यह प्रोत्साहन निश्चित रूप से सरकारी कर्मचारियों को अधिक खर्च करने के लिए प्रेरित करेगा और अंतत: धन बाजारों में आ जाएगा।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.